रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 19:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
डॉक्टर की हत्या के मामले में तीन गिरफ्तार
गाजियाबाद, एजेंसी First Published:17-12-12 04:33 PM

गाजियाबाद के श्याम पार्क इलाके से 21 नवंबर से लापता डॉंक्टर की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने उनके कब्जे से दो तमंचे, हत्या में प्रयुक्त कार और गला दबाने के लिए इस्तेमाल किया गया गमछा भी बरामद कर लिया है।

साहिबाबाद के थाना प्रभारी रामनाथ सिंह यादव ने बताया कि श्याम पार्क मेन की गंली नंबर तीन में डां शशि भूषण रहते थे। उनका वहीं रहने वाले धमेन्द्र चौधरी उर्फ पप्पू के साथ एक मकान के मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा था जिसमें डां भूषण गवाह थे।

इस मामले में धमेन्द्र ने अदालत में गवाही न देने के लिए उन्हें धमकाया भी था। इसके बाद डां भूषण यहां से काम बंद कर गोवा चले गये थे। प्रापर्टी विवाद में ही 30 नवंबर को गवाही थी। धर्मेन्द्र को इस बात का डर था कि डॉक्टर की गवाही से विवादित मकान उसके हाथ से चला जाएगा।

यादव ने बताया कि डां शशि भूषण छठ पूजा पर यहां आए हुएं थे। इसी दौरान तीनों ने पूरी योजना बनाकर हत्या की साजिश रच डाली। धर्मेन्द्र के अलावा पकड़े गये दोनों आरोपियों पर इंदिरापुरम थाने में लूट और अन्य अपराध के मुकदमे दर्ज है। यादव के अनुसार धमेन्द्र चौधरी पूरी घटना के पीछे शामिल थे, जिसने डॉंक्टर की हत्या कर शव ठिकाने लगाने के लिए दोनों को एक लाख रुपये दिये गये थे। धमेन्द्र ने उन दोनों को 25 हजार रुपये भी दिये थे। डां भूषण उनमें से एक प्रवीण को पहले से जानते थे। वे उनकी कार में बैठ गए। इसके बाद रास्ते में उन दोनों ने डां भूषण के साथ बैठकर शराब पी और फिर कार लेकर मुरादनगर के रावली रोड होते हुए खिमावती गांव पहुंच गए। वहां उन्होंने डॉक्टर की गमछे से गला घोंट कर हत्या कर दी और शव को पास के ईख के खेत में फेंक दिया था। 

इस बीच चार दिसंबर को मुरादनगर पुलिस ने ईख के खेत से शव बरामद किया मगर पहचान नहीं होने के चलते कुछ दिन बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड