बुधवार, 27 मई, 2015 | 17:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आईसीसी टेस्ट रैंकिंग: कोहली दसवें स्थान पर बरकरार देश की आत्मा के खिलाफ जा रही है केंद्र सरकार: राहुल बिना बॉस वाली इस कंपनी के बारे में जानते हैं आप? मोदी सरकार पर मनमोहन सिंह का निशाना, कहा जनता का ध्यान भटका रही है केंद्र सरकार राजनाथ, सोनिया समेत 298 सांसदों ने नहीं खर्च की सांसद निधि यूपी: टल्ली होकर पटरी पर गिरे, रोकनी पड़ी ट्रेन मुस्लिम होने के कारण मुझसे खाली कराया गया घर: मिस्बाह कादरी 'समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे, इन्हें बंद कर देना चाहिये'  39000 फुट की ऊंचाई पर गुल हुई विमान के इंजन की बिजली EXCLUSIVE: पूरे देश में कारों पर अब नहीं लगेगा टोल...!
डॉक्टर की हत्या के मामले में तीन गिरफ्तार
गाजियाबाद, एजेंसी First Published:17-12-12 04:33 PM

गाजियाबाद के श्याम पार्क इलाके से 21 नवंबर से लापता डॉंक्टर की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने उनके कब्जे से दो तमंचे, हत्या में प्रयुक्त कार और गला दबाने के लिए इस्तेमाल किया गया गमछा भी बरामद कर लिया है।

साहिबाबाद के थाना प्रभारी रामनाथ सिंह यादव ने बताया कि श्याम पार्क मेन की गंली नंबर तीन में डां शशि भूषण रहते थे। उनका वहीं रहने वाले धमेन्द्र चौधरी उर्फ पप्पू के साथ एक मकान के मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा था जिसमें डां भूषण गवाह थे।

इस मामले में धमेन्द्र ने अदालत में गवाही न देने के लिए उन्हें धमकाया भी था। इसके बाद डां भूषण यहां से काम बंद कर गोवा चले गये थे। प्रापर्टी विवाद में ही 30 नवंबर को गवाही थी। धर्मेन्द्र को इस बात का डर था कि डॉक्टर की गवाही से विवादित मकान उसके हाथ से चला जाएगा।

यादव ने बताया कि डां शशि भूषण छठ पूजा पर यहां आए हुएं थे। इसी दौरान तीनों ने पूरी योजना बनाकर हत्या की साजिश रच डाली। धर्मेन्द्र के अलावा पकड़े गये दोनों आरोपियों पर इंदिरापुरम थाने में लूट और अन्य अपराध के मुकदमे दर्ज है। यादव के अनुसार धमेन्द्र चौधरी पूरी घटना के पीछे शामिल थे, जिसने डॉंक्टर की हत्या कर शव ठिकाने लगाने के लिए दोनों को एक लाख रुपये दिये गये थे। धमेन्द्र ने उन दोनों को 25 हजार रुपये भी दिये थे। डां भूषण उनमें से एक प्रवीण को पहले से जानते थे। वे उनकी कार में बैठ गए। इसके बाद रास्ते में उन दोनों ने डां भूषण के साथ बैठकर शराब पी और फिर कार लेकर मुरादनगर के रावली रोड होते हुए खिमावती गांव पहुंच गए। वहां उन्होंने डॉक्टर की गमछे से गला घोंट कर हत्या कर दी और शव को पास के ईख के खेत में फेंक दिया था। 

इस बीच चार दिसंबर को मुरादनगर पुलिस ने ईख के खेत से शव बरामद किया मगर पहचान नहीं होने के चलते कुछ दिन बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।