गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 20:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं कालेधन मामले में सभी दोषियों की खबर लेगा एसआईटी: शाह एनसीपी के समर्थन देने पर शिवसेना ने उठाये सवाल 'कम उम्र के लोगों की इबोला से कम मौतें'  श्रीलंका में भूस्खलन में 100 से अधिक लोग मरे स्वामी के खिलाफ मानहानि मामले की सुनवाई पर रोक मायाराम को अल्पसंख्यक मंत्रालय में भेजा गया
मुख्यमंत्री के बयान का भाजपा ने किया विरोध
First Published:16-12-12 11:34 PM

नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के उस बयान पर भाजपा ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है जिसमें कथित पर 600 रुपये में प्रति महीने पांच सदस्यों वाले परिवार को दाल और चावल जैसी बुनियादी आवश्यकताएं पूरी होने की बात की गई है। भाजपा नेता विजय गोयल ने अन्नश्री योजना शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री दीक्षित को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उनको आटे-दाल का भाव नहीं मालूम। वहीं मुख्यमंत्री ने कहा है कि उनके बयानों को संदर्भ से परे रखकर पेश किया गया है।

भाजपा नेता गोयल ने कहा कि दीक्षित कभी क्षुग्गियों, अवैध कालोनियों और गांव में नहीं गईं। इसलिए महिला होने के बावजूद उन्हें आटा और दाल का कुछ भी पता नहीं है। भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेसी सरकार चुनाव से पहले मतदाताओं को लुभाने के लिए इस योजना की शुरूआत की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री दीक्षित का यह दावा है कि पांच सदस्यों वाले परिवार को चलाने के लिए 600 रुपये पर्याप्त हैं। इसका मतलब यह है कि एक व्यक्ति के लिए चार रुपये प्रतिदिन।

गोयल ने कहा कि इससे पहले योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने भी कहा था कि ग्रामीण क्षेत्र में 27 और शहरी क्षेत्रों में 32 रुपये प्रतिदिन किसी परिवार का खर्च चलाने के लिए पर्याप्त है। उन्होंने सरकार की नकदी स्थांतरण योजना के लिए लोगों की पहचान किए जाने की योग्यता पर सवाल खड़े किए और कहा कि यह सिर्फ चुनाव में मतदाताओं को लुभाने का हथकंडा है।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ