गुरुवार, 17 अप्रैल, 2014 | 23:55 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सीडी बांटने पर कांग्रेस पर चुनाव आयोग करे कार्रवाई: उमा ईदी अमीन, हिटलर, मुसोलिनी की तरह हैं मोदी: सिंघवी उत्तर प्रदेश, बिहार, बंगाल और छत्तीसगढ़ में रिकॉर्ड मतदान राजग की सरकार बनी तो सिर्फ मोदी प्रधानमंत्री: राजनाथ राहुल बतायें लोगों को कौन बना रहा मूर्ख: भाजपा मोदी मुठभेड़ मुख्यमंत्री और झूठ बोलने के आदी: चिदंबरम  जानिए देशभर में हुए मतदान के पल-पल की खबरें रामविलास पासवान के हलफनामे में पहली पत्नी का नाम नहीं चुनाव आयोग ने की शाह, आजम के बयानों की निंदा अपराध किया तो फांसी चढ़ा दो, माफी नहीं मांगूंगा: मोदी
 
हवलदार की हत्या में शामिल था नीतू डाबोदा
First Published:15-12-12 10:20 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता

कंझावला में हुई हवलदार रामकशिन की हत्या में नीतू डाबोदा व उसके साथी शामिल थे। यह खुलासा उसके एक शार्प शूटर ने अपराध शाखा के सामने किया है। पुलिस ने इस शार्प शूटर को बवाना से एक युवक को अगवा कर उसकी हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपी 24 वर्षीय संदीप उर्फ विक्की के पास से पुलिस ने एक पिस्तौल, दो मैगजीन और .32 बोर की 10 गोलियां बरामद की हैं। अपराध शाखा के पुलिस उपायुक्त एस.बी.एस त्यागी के अनुसार कंझावला गांव निवासी गैंगस्टर अजय कुमार को अगवा कर उसकी हत्या कर दी गई थी।

मामले की जांच के दौरान अपराध शाखा को पता चला कि वारदात को नीदू डाबोदा गैंग ने अंजाम दिया है। इस बीच एक गुप्त सूचना पर एसीपी होशियार सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर नरेश चंद्र व एसआई अरुण देव नेहरा की टीम ने इस गिरोह के सदस्य संदीप उर्फ विक्की को कंझावला से गिरफ्तार कर लिया। उसने पुलिस को बताया कि 16 नवम्बर को नीतू व प्रदीप के साथ मिलकर उसने नीरज बवाना गैंग के सदस्य अजय की हत्या की थी।

अजय उनकी बजाय नीरज बवाना गिरोह के लिए काम करता था। इसके अलावा उनके साथी पारस से भी अजय ने कहासुनी की थी। साजशि के तहत नीतू व प्रदीप अजय को अगवा कर अपने साथ तातेसर गांव के खेत में ले गए, जहां संदीप पहले से मौजूद था। आरोपियों ने उसे आठ से दस गोलियां मारी, जिससे उसकी मौत हो गई। उसके शव को करनाल ले जाकर नीतू व प्रदीप ने जला दिया था। संदीप ने पुलिस को हवलदार रामकशिन की हत्या का घटनाक्रम भी बताया।

उसने बताया कि 25 नवम्बर की रात नीतू, पारस, आलोक व काला उसके घर सफेद रंग की वर्ना कार से आए थे। उसके खेतों में आरोपियों ने जमकर शराब पी। नीतू के कहने पर उसने दो देशी पिस्तौल उन्हें दी थी। इनके अलावा नीतू के पास पहले से एक पिस्तौल थी। देर रात चारों हरियाणा जाने के लिए निकले थे। सुबह उसे पता चला कि जौंति बार्डर पर सफेद कार में सवार बदमाशों ने हवलदार की हत्या कर दी। वारदात के दो दिन बाद उसने नीतू से जब पूछा तो उसने पारस के साथ मिलकर हवलदार को मारने की जानकारी उसे दी थी।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°