शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 11:20 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
चरित्र सार्टिफिकेट की जगह एप्टीट्यूड सार्टिफिकेट दिया जाए, छोटा काम करके भी बड़ी उपलब्धि हासिल की जा सकती है, कविता लिखने का शौका है तो लिखिए, पेटिंग बनाने का शौक है तो बनाते जाइये- पीएमपीएम ने माना कि हमारे देश में 18 हजार गांव ऐसे हैं जहां बिजली नहीं है। एक हजार दिनों में 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचानी है।पीएम ने सार्थक भारद्वाज से पूछा कहां से हुआ खाना बनाने का शौक ? पूछा क्या बनना चाहते हो ? सार्थक ने कहा वे शेफ बनना चाहेंगे।2020 तक सभी घरों में चौबीसों घंटे बिजली होनी चाहिए- पीएमगोआ की छात्रा सोनिया ने पीएम से पूछा कि आपको कौन सा खेल पसंद है ?कला उत्सव वेबसाइट लांच, स्कूलों में कला की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए लांच की गई है वेबसाइटदेश के पहले राष्ट्रपति डां. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की स्मृति में 10 रुपये का सिक्का जारीमुंबई: आरबीआई बिल्डिंग में लगी आग
खराब कृत्रिम अंग बेचना भारी पड़ा, 4.46 लाख का जुर्माना
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-12-2012 04:09:50 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

कृत्रिम अंगों की बिक्री करने वाली कंपनी को खराब इलेक्ट्रिक हैंड बेचने के एवज में 4.46 लाख रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया गया है।

दक्षिण-पश्चिम जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच ने कृत्रिम अंग बनाने वाली ब्रिटेन की कंपनी इंडोलाइट को उचित सेवा नहीं मुहैया कराने का दोषी पाया है। कंपनी ने विकलांग द्वारा मरम्मत करने के लिए दिए गए इलेक्ट्रिक हाथ को बेच दिया था।

अदालत ने कहा कि मालूम होता है कि विरोधी पक्ष (इंडोलाइट इंडिया) ने ठीक ढंग से काम नहीं किया और उसे दो बार मरम्मत करने के लिए देना पड़ा। शिकायतकर्ता के पास विरोधी पक्ष को खराब इलेक्ट्रिक हाथ सौंपने के अलावा कोई चारा नहीं था। यह विनिर्माता का काम था कि वह जांच करे कि हाथ में कोई खराबी नहीं हो। लेकिन वह ऐसा करने में नकाम रहा।

इसके उलट उसने मनमानी और एकतरफा निर्णय करते हुए हाथ को तोड़ दिया और फिर से कम कीमत पर किसी और को बेच दिया। हम विरोधी पक्ष को सेवा मुहैया कराने में असफल पाते हैं जिसकी वजह से शिकायतकर्ता को परेशानी और वित्तीय हानि उठानी पड़ी।

नरेंद्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि कंपनी को (इलेक्ट्रिक हाथ के लिए) 3,91,000 रुपये शिकायतकर्ता को भुगतान करने का आदेश दिया जाता है। इसके अलावा उसे क्षतिपूर्ति के तौर पर 50,000 रुपये और कानूनी लड़ाई में हुए खर्च के लिए 5,000 रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया जाता है। राजस्थान के मनीष पुरोहित द्वारा की गई अपील पर पीठ ने यह फैसला सुनाया है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingसईद अजमल ने संन्यास से किया इंकार
संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन के कारण विवादों में घिरे पाकिस्तान के ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने संन्यास लेने की अटकलों को खारिज करते हुए खुद को सीमित ओवरों के मुकाबले के लिए उपयुक्त गेंदबाज बताया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

जब संता गया बैंक लूटने...
संता बैंक में डकैती डालने पहुंचा मगर रिवॉलवर घर पर ही भूल गया...
मगर बैंक फिर भी लूट लाया बताओ कैसे?
क्योंकि बैंक मैनेजर बंता था...
बंता: (संता से बोला) कोई बात नहीं...पैसे ले जाओ रिवॉलवर कल दिखा जाना!!