रविवार, 01 फरवरी, 2015 | 18:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली को आगे बढ़ाना है तो भाजपा को पूर्ण बहुमत दीजिए : मोदीजहां झुग्गी होगी वहीं पक्का मकान बनाएंगे : मोदीशहर में ट्रफिक की समस्या का समाधान किरण बेदी करा देंगी : मोदीगरीबों को गरीब रखकर राजनीति हुई : मोदीचुनाव भी विकास के मु्द्दे पर लड़ता हूं और सरकार भी विकास के मुद्दे पर चलाता हूं : मोदीमेरे पास किताबी ज्ञान नहीं, लोगों की शक्ति की पहचान है : मोदीटीवी में जगह से सरकार नहीं चलती : मोदीयुवा देश का लाभ लेना मुझे आता है : मोदीअगर नसीबवाले से आपका पैसा बचता है तो बदनसीब की क्या जरूरत : मोदीमेरे नसीब से तेल-पेट्रोल सस्ता हुआ तो क्या बुरा है : मोदीआपने जो प्यार दिया अब मुझे वह ब्याज समेत लौटाना है : मोदीआंदोलन की आदत रखने वालों को सिर्फ टीवी में जगह चाहिए : मोदीदिल्ली को जिम्मेवार सरकार चाहिए : मोदीभागने से काम नहीं चलता, सरकार चलाना बड़ी जिम्मेदारी : मोदीरोज विरोधी सुबह उठकर सोचते हैं कि आज कौन सा झूठ फैलाया जाए : मोदीकांग्रेस-आप में झूठ बोलने की होड़ : मोदीकांग्रस-आप ने कुर्सी के लिए सौदा किया : मोदीहम समस्या दूर करने की सोचते हैं : मोदीदिल्ली से पानी का वादा पूरा किया : मोदीदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी ने रैली के दौरान कहा, मैं असली दिल्लीवाला हो गया हूंदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी की रैलीबीजेपी नफरत फैला रही है : सोनियाबीजेपी ने झूठे वादे किए, किसानों के सपने का क्या हुआ, काला धन वापस कहां आया : सोनियाहमने झुग्गीवालों को घर दिये : सोनियादिखावे की राजनीति करने वालों से सतर्क रहने की जरूरत : सोनियाबिहार के फारबिरगंज में काले झंडों के साथ अल्पसंख्यक समुदाय के हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, फांस की शार्ली एब्दो पत्रिका द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब का कार्टून छापने के विरोध में किया प्रदर्शन।
खराब कृत्रिम अंग बेचना भारी पड़ा, 4.46 लाख का जुर्माना
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-12-12 04:09 PM

कृत्रिम अंगों की बिक्री करने वाली कंपनी को खराब इलेक्ट्रिक हैंड बेचने के एवज में 4.46 लाख रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया गया है।

दक्षिण-पश्चिम जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच ने कृत्रिम अंग बनाने वाली ब्रिटेन की कंपनी इंडोलाइट को उचित सेवा नहीं मुहैया कराने का दोषी पाया है। कंपनी ने विकलांग द्वारा मरम्मत करने के लिए दिए गए इलेक्ट्रिक हाथ को बेच दिया था।

अदालत ने कहा कि मालूम होता है कि विरोधी पक्ष (इंडोलाइट इंडिया) ने ठीक ढंग से काम नहीं किया और उसे दो बार मरम्मत करने के लिए देना पड़ा। शिकायतकर्ता के पास विरोधी पक्ष को खराब इलेक्ट्रिक हाथ सौंपने के अलावा कोई चारा नहीं था। यह विनिर्माता का काम था कि वह जांच करे कि हाथ में कोई खराबी नहीं हो। लेकिन वह ऐसा करने में नकाम रहा।

इसके उलट उसने मनमानी और एकतरफा निर्णय करते हुए हाथ को तोड़ दिया और फिर से कम कीमत पर किसी और को बेच दिया। हम विरोधी पक्ष को सेवा मुहैया कराने में असफल पाते हैं जिसकी वजह से शिकायतकर्ता को परेशानी और वित्तीय हानि उठानी पड़ी।

नरेंद्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि कंपनी को (इलेक्ट्रिक हाथ के लिए) 3,91,000 रुपये शिकायतकर्ता को भुगतान करने का आदेश दिया जाता है। इसके अलावा उसे क्षतिपूर्ति के तौर पर 50,000 रुपये और कानूनी लड़ाई में हुए खर्च के लिए 5,000 रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया जाता है। राजस्थान के मनीष पुरोहित द्वारा की गई अपील पर पीठ ने यह फैसला सुनाया है।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड