रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 11:30 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी
दिल्ली अस्पताल में मौत: दो चिकित्सक बर्खास्त, एक निलंबित
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-12 10:38 PMLast Updated:07-12-12 10:15 AM

दिल्ली के अस्पताल के आईसीयू में ऑक्सीजन की आपूर्ति कथित तौर पर बंद होने से हुई चार मरीजों की मौत के मामले में दो चिकित्सकों को बर्खास्त कर दिया गया है, जबकि एक चिकित्सा अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है।
   
जांच समिति की ओर से रिपोर्ट सौंपने के कुछ घंटों बाद ही उत्तरी दिल्ली के सुश्रुत ट्रामा सेंटर के इन चिकित्सकों के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। बीते मंगलवार को इसी अस्पताल के आईसीयू में आक्सीजन की आपूर्ति कथित तौर पर बंद होने के कारण चार मरीजो की मौत हो गई थी।
   
दिल्ली सरकार ने ऑक्सजीन की आपूर्ति करने वाली इकाई का अनुबंध भी रदद कर दिया है। इस इकाई को प्रतिबंधित करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। दिल्ली के स्वास्थ मंत्री एके वालिया ने कहा कि दो चिकित्सकों डॉक्टर टीना खुराना और डॉक्टर रिचा गुप्ता की सेवाएं खत्म कर दी गई हैं। ये दोनों चिकित्सक अस्पताल के आईसीयू की प्रभारी थी जिसमें मौजूद मरीजों की मौत हुई थी। चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर आंशुमान को निलंबित कर दिया गया है। सुश्रुत ट्रामा सेंटर के आईसीयू में कल एक और मरीज की मौत हो गई थी, लेकिन दिल्ली सरकार का दावा है कि इस मौत की वजह दूसरी है।
    
वालिया ने कहा कि स्वास्थ विभाग के विशेष सचिव एस बी शशांक अध्यक्षता वाली जांच समिति की रिपोर्ट के तथ्यों के आधार पर चिकित्सकों और कांट्रैक्टर के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आईसीयू के प्रभारी चिकित्सक अपनी डयूटी निभाने में नाकाम रहे, जबकि एक चिकित्सा अधिकारी लापरवाही का दोषी है।
    
वालिया ने अतिरिक्त चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर रामपाल को हटा दिया गया है और रिपोर्ट में विचार करने के बाद ही उन्हें आगे कहीं पदासीन किया जाएगा। अधिकारियों ने कहा कि जिन चिकित्सकों की सेवाएं समाप्त की गई हैं, वे अनुबंधित थे। इस मामले में प्राथमिकी पहले ही दर्ज कर दी गई है और अस्पताल के दो तकनीकी कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ