रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 06:34 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
जयंत ने कहा वेस्ट में हो हाईकोर्ट
First Published:02-12-12 10:51 PM

 मेरठ। मुख्य संवाददाता वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच पर सियासी दांव-पेच तेज हो गए हैं। रविवार को सपा के राष्ट्रीय महासचवि प्रो. रामगोपाल यादव ने वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच को केंद्र का मसला बताकर चुप्पी साध ली जबकि, रालोद महासचवि जयंत चौधरी ने कहा कि वह इस मसले को संसद में उठाएंगे।

जयंत चौधरी ने कहा कि सस्ते और सुलभ न्याय के लिए वेस्ट में हाईकोर्ट होना चाहिए। प्रो.रामगोपाल यादव ने एक सवाल के जवाब में कहा कि बेंच से प्रदेश सरकार का कोई लेना-देना नहीं है। यह वशिुद्ध केंद्र का मसला है। केंद्र सरकार ने जसवंत सिंह आयोग का गठन किया था। उस कमेटी ने आगरा में बेंच की संस्तुति की थी, लेकिन बाद में निरस्त कर दिया था। अब इसका फैसला पूरी तरह से केंद्र को करना है। दूसरी तरफ सांसद जयंत चौधरी ने कहा कि छह तारीख को वह इस मसले पर संसद में सवाल उठाएंगे।

संसद में पूछा जाएगा कि यूपी हाईकोर्ट में कितने मामले लंबित हैं। बेंच आगरा में हो या मेरठ में इस सवाल पर जयंत ने कहा कि इस पर न कभी विवाद था और न होगा। बेंच वेस्ट यूपी में होनी चाहिए चाहे कहीं भी हो। बात आगे बढ़ाते हुए जयंत ने कहा कि वेस्ट यूपी की समस्या का हल तभी होगा जब यहां हाईकोर्ट मिले। यह हरित प्रदेश से जुड़ा मसला है इसलिए इस आंदोलन को आगे बढ़ाया जाएगा। बड़े प्रदेश होने से सरकारों की पकड़ कमजोर हो रही है।
 
 
 
 
टिप्पणियाँ