गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 18:28 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
न्यायालय ने गुमशुदा बच्चों के मामलों में प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर बिहार और छत्तीसगढ़ सरकारों को आड़े हाथ लिया।सरकार 1984 के सिख विरोधी दंगों में मारे गए 3,325 लोगों में से प्रत्येक के नजदीकी परिजन को पांच़-पांच लाख देगीमहाराष्ट्र की नई सरकार में शिवसेना के किसी नेता को शामिल नहीं किया जाएगा: राजीव प्रताप रूडी
विधायक और राजभवन की अफसर के बेटे भिड़े
First Published:30-11-12 10:47 PM

ग्रेटर नोएडा/वरिष्ठ संवाददाता

शुक्रवार की दोपहर नॉलेज पार्क में छात्रों के दो पक्षों में मारपीट हो गई। छात्रों में एक बुलंदशहर के विधायक का बेटा है, जबकि दूसरा राजभवन की अधिकारी का बेटा। मारपीट के बाद पुलिस भी पहुंची लेकिन तब तक हमलावर फरार हो गए थे। कॉलेज प्रशासन ने दोपहर बाद दोनों पक्षों को बुलाकर वार्ता करवाई।

दोनों पक्षों में समझौता हो गया है, हालांकि कॉलेज प्रशासन ने जांच के लिए समिति गठित कर दी है। बुलंदशहर का रहने वाला आदित्य चौधरी शुक्रवार की दोपहर एनआईईटी कॉलेज के सामने खड़ा था। करीब तीन बजे तीन-चार कारों में सवार होकर 20 से ज्यादा युवक पहुंचे और आदित्य चौधरी को बुरी तरह पीटा। मारपीट देखकर छात्रों में अफरा-तफरी मच गई। आदित्य ने अपने परिजनों को फोन करके इसकी जानकारी दी। थोड़ी देर में आदित्य के पक्ष के युवक भी कई कारों में सवार होकर कॉलेज पहुंच गए।

इनमें एक सफेद रंग की कार पर विधायक लिखा था और विधानसभा सचविालय का प्रवेश पास भी चस्पा था। गौतमबुद्ध नगर के वीआईपी नंबर की यह कार नोएडा के सेक्टर 39 के पते पर पंजीकृत है। आदित्य चौधरी बुलंदशहर के विधायक का बेटा है। आदित्य ने कॉलेज प्रशासन को लिखित शिकायत दी है, जिसमें बताया कि उसकी कक्षा के छात्र मोहित अशोक ने उस पर हमला करवाया है। पहले भी उसके साथ मारपीट की जा चुकी है। मोहित अशोक राजभवन में कार्यरत एक महिला अधिकारी का बेटा है।

कॉलेज प्रशासन ने घटना के बारे में पहले पुलिस को सूचना दी। पुलिस की दो पीसीआर वैन कॉलेज में पहुंच गईं। उसके बाद दोनों छात्रों के परिजनों को सूचना दी गई। दोनों के परिजन शाम को कॉलेज में पहुंचे और दोनों छात्रों को बुलाकर पूछताछ की गई। मोहित अशोक ने कहा कि उसका घटना से कोई लेना-देना नहीं है। जब आदित्य चौधरी के साथ मारपीट हुई, तब वह अपने हॉस्टल में था। पुरानी बातों को लेकर उस पर आरोप लगाया जा रहा है।

दोनों पक्षों की ओर से पुलिस से शिकायत नहीं की गई है। हालांकि कॉलेज प्रशासन की ओर से जांच करने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया है।

‘घटना के बाद आदित्य चौधरी और मोहित अशोक के परिजनों को बुलाया गया था। दोनों छात्रों को चेतावनी दे दी गई है। पूरे मामले की जांच तीन सदस्यीय समिति करेगी। इससे पूर्व भी इन दोनों छात्रों की ओर से एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दी गई थीं, जिस पर कार्यवाही की गई थी।

एक छात्र को हॉस्टल से निकाल दिया गया था। मोहित अशोक को चेतावनी दी गई थी। ’डॉ. यदुवीर सिंह, निदेशक, एनआईईटी।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ