सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 20:49 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंडः विधायक निर्मला देवी की जमानत याचिका खारिज।आरपी वातल को वित्त सचिव नियुक्त किया गया।एलसी गोयल को इंडियन ट्रेड प्रमोशन आर्गेनाइजेशन (आईटीपीओ) का सीएमडी बनाया गया।पेट्रोल दो रुपये और डीजल 50 पैसे सस्ता।मुरादाबाद के काशीपुर बस स्टैंड पर अवैध वसूली को लेकर यूनियन वालों में मारपीट। पुलिस ने यूनियन अध्यक्ष को लिया हिरासत में। विरोध में बस चालकों ने की हड़ताल।जीआरपी सिपाही बनकर रेलवे स्टेशन पर यात्री को लूटपाट।जनता एक्सप्रेस में शाहजहांपुर से हरिद्वार जाते समय मुरादाबाद स्टेशन पर उतर गया था यात्री। यात्री शाहजहांपुर का रहने वाला।जीआरपी ने पीड़ित के बताए हुलिए के आधार पर डाली दबिश। प्लेटफार्म पांच पर धरे गए दोनों लुटेरे।मेरठ: दो दिन से लापता युवक की लाश गाजियाबाद के निवाड़ी में मिली, परिजनों का हंगामा
मां-पुत्री की हत्या, चार व्यक्तियों की आजीवन कारावास सजा बरकरार
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:30-11-2012 06:26:05 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली उच्च न्यायालय ने महिला और उसकी पुत्री की करीब छह वर्ष पहले हत्या के जुर्म में चार मुजरिमों की आजीवन कारावास की सजा बरकरार रखी है। न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति एस पी गर्ग की पीठ ने हत्या के लिए दोषी करार दिये गए भास्कर महालिक, भगवान महालिक, निरंजन महालिक और जगबंधू दास की अपील खारिज करते हुए निचली अदालत का फैसला बरकरार रखा। इन चारों मुजरिमों ने ही दोनों महिलाओं की उनके घर में डकैती करने के बाद हत्या कर दी थी। दोनों मां-पुत्री उच्चतम न्यायालय में वकालत करती थीं।
    
पीठ ने कहा कि डकैती और हत्या किसी संदेह से परे साबित हुआ है। परिस्थितिजन्य सबूतों से स्पष्ट रूप से सभी आरोपियों के डकैती और हत्या में शामिल होने की पुष्टि होती है। लूटी गई वस्तुएं पुलिस द्वारा आरोपियों की ओर से उपलब्ध करायी गई जानकारी के आधार पर उनके आवास से बरामद की गई। पीठ ने कहा, साक्ष्य कानून की धारा 114 (ए) के तहत सुरक्षित रूप से एक वैध अनुमान लगाया जा सकता है कि याचिकाकर्ताओं ने ना केवल डकैती की बल्कि पीडिम्तों की हत्या भी की।
    
निचली अदालत ने चारों को दिसम्बर 2010 में स्वर्ण महाजन और उसकी पुत्री अनुराधा महाजन की हत्या का दोषी ठहराया था। अदालत ने हालांकि पांचवें आरोपी सुरेंद्र पाल को पर्याप्त सबूत के अभाव में बरी कर दिया था। पाल ने लूटपाट का सामान प्राप्त किया था।
 
चारों दोषी 11-12 मार्च 2006 की रात को दक्षिण दिल्ली के सिद्धार्थ इंक्लेव स्थित पीडिम्तों के घर में घुसे थे और डकैती के बाद दोनों की हत्या कर दी थी।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingभारत ने कसा शिकंजा, जीत से सिर्फ सात विकेट दूर
पुछल्ले बल्लेबाजों के उपयोगी योगदान से श्रीलंका के सामने बड़ा लक्ष्य रखने वाले भारत ने शुरू में ही तीन विकेट निकालकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच पर शिकंजा कसने के साथ श्रीलंकाई सरजमीं पर 22 साल बाद पहली टेस्ट सीरीज जीतने की तरफ मजबूत कदम बढ़ाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

कहां रखें पैसे
पत्नी: मैं जहां भी पैसा रखती हूं हमारा बेटा वहां से चुरा लेता है। मेरी समझ नहीं आ रहा कि पैसे कहां रखूं?
पति: पैसे उसकी किताबों में रख दो, वो उन्हें कभी नहीं छूता।