शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 20:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दूरसंचार नियामक ट्राई का कॉल ड्रॉप के लिए उपभोक्ताओं को मुआवजे का प्रस्ताव।RSS की बैठक में बोले मोदी, बड़े बदलाव के लिए काम कर रहे हैं, जल्द ही नतीजे सामने आएंगेपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान शामिल लोगों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 25 घायलदिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभ
बंद कमरे से मिला मां-बेटी का शव
First Published:27-11-2012 10:26:03 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता

नरेला के स्वतंत्र नगर इलाके में एक बंद कमरे से 20 वर्षीय महिला व उसकी दो वर्षीय बेटी का शव मिला है। शव चार से पांच दिन पुराना है। मृतका की पहचान निशा के रूप में की गई है। वह महज 20 दिन पहले ही अपने पति संतोष व दो वर्षीय बच्ची के साथ इस मकान में रहने आई थी। प्राथमिक जांच में पुलिस ने दोनों की गला दबाकर हत्या किए जाने की आशंका जताई है।

वारदात के बाद से लापता महिला के पति पर हत्या को अंजाम देने का पुलिस ने शक जताया है। पुलिस के अनुसार हरियाणा निवासी ओमप्रकाश का स्वतंत्र नगर में एक मकान है। महज 20 दिन पहले उसने इस मकान को संतोष कुमार नामक युवक को किराये पर दिया था। मकान में संतोष अपनी पत्नी व दो वर्षीय बेटी के साथ रहता था। ओमप्रकाश ने इस परिवार का किरायेदार सत्यापन भी नहीं कराया था। मजदूरी करने वाला संतोष पिछले चार-पांच दिनों से लापता था।

उधर पड़ोसियों ने मंगलवार शाम को संतोष के कमरे से बदबू महसूस की। जब लोगों ने खिड़की से झांककर देखा तो कमरे के अंदर मां-बेटी का शव पड़ा हुआ था। शाम छह बजे घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने ताला तोड़कर शव को बाहर निकाला व पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस के अनुसार दरवाजे पर ताला लगाने के बाद चाबी को खिड़की से अंदर फेंक दिया गया था। शव सड़ी-गली अवस्था में मिला है, जिससे लगता है कि हत्या को चार से पांच दिन पहले अंजाम दिया गया होगा।

पुलिस आसपास के लोगों द्वारा बताए गए संतोष के हुलिये के आधार पर उसे तलाशने का प्रयास कर रही है।

 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।