मंगलवार, 01 सितम्बर, 2015 | 09:24 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
चांदी के सिक्कों से भरा घड़ा मिला
देवीलाल अग्रवाल, रामगढ़। First Published:17-04-2012 12:49:59 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

रामगढ़ के बौड़िया गांव में उत्क्रमित मध्य विद्यालय के भवन निर्माण के लिए नींव खुदाई के क्रम में अतिप्राचीन काल के सिक्के, मूर्तियों का शिलापट्ट और दीवार का अवशेष मिला है। जिला प्रशासन ने पुरातात्विक महत्व के सामान को जब्त कर लिया है। स्कूल भवन की नींव खुदाई के काम पर रोक लगा दी गई है।

दुमका के डीसी प्रशांत कुमार ने बताया कि अब तक 23 सिक्के बरामद हुए हैं, जिन्हें कोषागार में रखने का आदेश दिया गया है। डीसी ने बताया कि प्राचीन सिक्के किस काल के हैं, यह पता नहीं चला है। पुरातत्व विभाग को विशेषज्ञों की टीम भेजने के लिए पत्र लिखा जा रहा है।

प्रशासन द्वारा मौके पर भेजे गए डीआरडीए के निदेशक शशिधर मंडल ने बताया कि सभी सिक्के चांदी के हैं और उस पर अंकित लिपि को कोई पुरातत्व का जानकार ही पढ़ सकता है। दो आकार के सिक्के मिले हैं। खुदाई के दौरान प्राप्त मूर्तियों और पुराने पीलर की सुरक्षा के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

रामगढ़ के बीडीओ डा शिशिर कुमार सिंह मौके पर कैम्प कर रहे हैं। रविवार को नींव की खुदाई के दौरान नीचे पुराना पीलर मिला। मजदूरों ने जब पुरानी ईंट के बने उन पीलरों की कटिंग की, तो उसमें चांदी के पुराने सिक्कों से भरा एक घड़ा मिला।

मजदूरों ने उस घड़े को गायब कर दिया। गांव में इस बात की चर्चा होने पर बात प्रशासन तक पहुंची। प्रशासन हरकत में आया। अभी तक 23 सिक्के ही बरामद हुए हैं। मजदूरों से पूछताछ चल रही है। प्रशासन को मंगलवार तक शेष सिक्कों के बरामद हो जाने की उम्मीद है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingद्रविड़ ने कहा, मेरी तकनीक में कुछ भी गड़बड़ नहीं है: पुजारा
लगभग दो साल बाद अपना पहला टेस्ट शतक जमाने के बाद राहत महसूस कर रहे भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने आज भारत ए टीम के कोच राहुल द्रविड़ का आभार व्यक्त किया जिन्होंने उन्हें भरोसा दिलाया कि उनकी तकनीक में कुछ भी गड़बड़ नहीं थी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

कहां रखें पैसे
पत्नी: मैं जहां भी पैसा रखती हूं हमारा बेटा वहां से चुरा लेता है। मेरी समझ नहीं आ रहा कि पैसे कहां रखूं?
पति: पैसे उसकी किताबों में रख दो, वो उन्हें कभी नहीं छूता।