गुरुवार, 28 मई, 2015 | 21:35 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मोदी ने मनमोहन से ली थी एक घंटे इकॉनोमी पर क्लासः राहुल  लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदी CBSE 10th रिजल्ट: 94,447 छात्रों को मिला 10 सीजीपीए सोनिया की मौजूदगी में हुई बैठक, पास हुआ मोदी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जेट एयरवेज की टिकटों पर 25 प्रतिशत छूट की पेशकश रायबरेली पहुंची सोनिया गांधी व्यापम घोटाला: अब तक जांच से जुड़े 40 लोगों की मौत त्रिपुरा सरकार ने राज्य में 18 सालों से लगा अफस्पा हटाया गुर्जर आंदोलन: बैंसला बोले, चाहे कुछ हो जाए बिना आरक्षण लिए नहीं लौटेंगे कुछ इस तरह हुई फीफा के 14 अधिकारियों की गिरफ्तारी
बिहार में 6 कुलपतियों की नियुक्ति रद्द
पटना, एजेंसी First Published:07-12-12 05:50 PM
Image Loading

पटना उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को एक जनहित याचिका पर फैसला सुनाते हुए कुलाधिपति देवानंद कुंवर द्वारा नियुक्त किए गए छह विश्वविद्यालयों के कुलपतियों और चार प्रति-कुलपतियों की नियुक्ति रद्द कर दी।

पटना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रेखा एम. दोषित और न्यायमूर्ति ए़ अमानुल्लाह की दो सदस्यीय खंडपीठ ने राज्य सरकार से परामर्श किए बगैर कुलाधिपति द्वारा नियुक्त छह कुलपतियों और चार प्रति-कुलपतियों की नियुक्ति को रद्द कर दिया।

न्यायालय के एक अधिकारी के अनुसार न्यायालय ने कुलाधिपति को एक सप्ताह के भीतर राज्य सरकार से परामर्श करने के बाद 30 दिनों के अंदर इन पदों पर नई नियुक्ति करने का आदेश भी दिया है।

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष कुलाधिपति ने राज्य सरकार से परामर्श किए बगैर पटना विश्वविद्यालय के कुलपति शंभुनाथ सिंह, बी.आर.ए. विश्वविद्यालय (मुजफ्फरपुर) के विमल कुमार, ज़े पी़ विश्वविद्यालय (छपरा) के रामविनोद सिंह, बी़ एऩ मंडल विश्वविद्यालय (मधेपुरा) के कुलपति अरुण कुमार, मजहरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय (पटना) के कुलपति मोहम्मद शम्सुजोहा और कामेश्वर सिंह संस्कृत विश्वविद्यालय (दरभंगा) के कुलपति अरविंद कुमार पांडेय की नियुक्ति की थी।

उल्लेखनीय है कि प्रोफेसर जनार्दन सिंह ने बिहार विश्वविद्यालय अधिनियम, 1976 और पटना विश्वविद्यालय अधिनियम का हवाला देते हुए पटना उच्च न्यायालय में इन नियुक्तियों को चुनौती देते हुए एक याचिका दायर की थी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड