शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 11:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
चरित्र सार्टिफिकेट की जगह एप्टीट्यूड सार्टिफिकेट दिया जाए, छोटा काम करके भी बड़ी उपलब्धि हासिल की जा सकती है, कविता लिखने का शौका है तो लिखिए, पेटिंग बनाने का शौक है तो बनाते जाइये- पीएमपीएम ने माना कि हमारे देश में 18 हजार गांव ऐसे हैं जहां बिजली नहीं है। एक हजार दिनों में 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचानी है।पीएम ने सार्थक भारद्वाज से पूछा कहां से हुआ खाना बनाने का शौक ? पूछा क्या बनना चाहते हो ? सार्थक ने कहा वे शेफ बनना चाहेंगे।2020 तक सभी घरों में चौबीसों घंटे बिजली होनी चाहिए- पीएमगोआ की छात्रा सोनिया ने पीएम से पूछा कि आपको कौन सा खेल पसंद है ?कला उत्सव वेबसाइट लांच, स्कूलों में कला की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए लांच की गई है वेबसाइटदेश के पहले राष्ट्रपति डां. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की स्मृति में 10 रुपये का सिक्का जारीमुंबई: आरबीआई बिल्डिंग में लगी आग
महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित राज्य है बिहार!
पटना, एजेंसी First Published:27-12-2012 10:09:14 AMLast Updated:27-12-2012 10:17:38 AM
Image Loading

दिल्ली में चलती बस में युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद महिलाओं के साथ ज्यादती के खिलाफ कड़े कानून बनाने और दुष्कर्मियों को फांसी की सजा देने को लेकर नए सिरे से बहस शुरू हो गई है। वहीं आंकड़ें बताते हैं कि देश में अन्य राज्यों की तुलना में बिहार महिलाओं के लिए ज्यादा सुरक्षित है।

नेशनल क्राइम ब्यूरो रिकॉर्ड के अनुसार वर्ष 2011 में दुष्कर्म के मामले में देश में बिहार का 11वां स्थान है, जहां पूरे देश के दुष्कर्म के 3.9 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के अनुसार देश में दुष्कर्म के सर्वाधिक 14 फीसदी मामले मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए। पिछले वर्ष बिहार में जहां दुष्कर्म के 934 मामले दर्ज हुए, वहीं मध्य प्रदेश में 3,406 मामले दर्ज किए गए।

बिहार राज्य पुलिस मुख्यालय के आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष अक्टूबर तक बिहार के विभिन्न थानों में महिलाओं के साथ दुष्कर्म के 823 मामले दर्ज किए गए, जबकि वर्ष 2011 में यह आंकड़ा 934 था। इसी तरह वर्ष 2010 में 795 और 2009 में दुष्कर्म के 929 मामले दर्ज हुए थे।

पिछले 12 वर्षो के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो राज्य में सर्वाधिक 1,122 दुष्कर्म के मामले वर्ष 2007 में दर्ज किए गए थे। वर्ष 2008 में यह आंकड़ा गिरकर 1,041 तक पहुंच गया था। 

भले ही बिहार में आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हों कि बिहार आमतौर पर अन्य कई राज्यों से महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं, परंतु विपक्षी दल इससे अलग विचार रखते हैं।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के महासचिव एवं सांसद रामकृपाल यादव कहते हैं कि बिहार के इस कथित सुशासन राज्य में महिलाएं किसी भी स्थिति में सुरक्षित नहीं हैं। यादव कहते हैं कि कई मामलों में तो पीड़िता थाने तक ही नहीं पहुंच पाती, जबकि कुछ मामले थानों में दर्ज ही नहीं होते। उन्होंने आरोप लगाया है कि वर्तमान सरकार केवल आंकड़ों का खेल, खेल रही है।

लेकिन सत्ता पक्ष इससे सहमत नहीं है। सत्तारुढ़ गठबंधन के घटक, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता संजय मयूख कहते हैं कि राज्य में महिलाओं की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाता है। संजय कहते हैं कि सभी जिलों में महिला थाने स्थापित किए गए हैं, जबकि गया में 2010 में जापानी महिला पर्यटक के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वारा 30 दिनों के अंदर ही दुष्कर्मियों को सजा दिलवाकर पूरे देश के सामने नजीर पेश की गई थी।

इधर, पुलिस का कहना है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हैं कि दुष्कर्म के कई मामले फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रहे हैं, जबकि पूरे राज्य में वाहनों के काले शीशे हटाने का अभियान चलाया जा रहा है।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingसईद अजमल ने संन्यास से किया इंकार
संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन के कारण विवादों में घिरे पाकिस्तान के ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने संन्यास लेने की अटकलों को खारिज करते हुए खुद को सीमित ओवरों के मुकाबले के लिए उपयुक्त गेंदबाज बताया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

जब संता गया बैंक लूटने...
संता बैंक में डकैती डालने पहुंचा मगर रिवॉलवर घर पर ही भूल गया...
मगर बैंक फिर भी लूट लाया बताओ कैसे?
क्योंकि बैंक मैनेजर बंता था...
बंता: (संता से बोला) कोई बात नहीं...पैसे ले जाओ रिवॉलवर कल दिखा जाना!!