शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 02:34 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
भाजपा में शामिल हो जायेंगे कल्याण: राजनाथ सिंह
लखनऊ, एजेंसी First Published:01-12-2012 08:18:37 PMLast Updated:01-12-2012 11:38:19 PM
Image Loading

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह भाजपा में शामिल हो चुके हैं और 10 से 15 दिसंबर के बीच इसकी औपचारिक घोषणा भी हो जायेगी।

सिंह ने आज संवाददाताओं से बातचीत के दौरान हुए सवालों के जवाब में कहा कि कल्याण सिंह को भाजपा में आया हुआ मान लीजिए, वे जनाधार वाले नेता हैं और आज सभी राष्ट्रवादी ताकतों के एकजुट होने की जरुरत है। (कल्याण) 10 से 15 दिसंबर के बीच औपचारिक रुप से भाजपा में शामिल हो जायेंगे। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा द्वारा भाजपा छोड़कर अलग दल बनाने के बारे में हुए सवालों का पूर्व भाजपा अध्यक्ष ने कहा,  किसी कद्दावर नेता के पार्टी से जाने पर कुछ फरक तो पड़ता है। मगर भाजपा एक राष्ट्रीय दल है और इसमें ऐसे नुकसान की भरपाई कर लेने की अंदएनी ताकत मौजूद है। कर्नाटक में भाजपा दोबारा भी सत्ता में आयेगी।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी को लेकर भाजपा के कतिपय नेताओं की विरोधी टिप्पणी का उल्लेख होने पर उन्होंने कहा कि भाजपा एक राष्ट्रीय दल है। कभी कभी एकाध बयान आ जाने को बहुत महत्व नहीं दिया जाना चाहिए।

गडकरी को एक और कार्यकाल मिलने के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने क्यों नहीं कहकर बात समाप्त कर दी। राजधानी लखनऊ में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त तिवारी की इस कथित टिप्पणी पर सवाल होने पर कि अखिलेश प्रदेश चलाये और मुलायम देश चलाये, सिंह ने हंसते हुए कहा, प्रदेश संभल नहीं रहा, देश की बात दूर है।

सवाल जवाब के दौरान इस उल्लेख पर कि भाजपा को हमेशा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण से फायदा होता है, सिंह ने कहा, भाजपा जाति और संप्रदाय के आधार पर राजनीति नहीं करती। उन्होंने इसी क्रम में आगे कहा, सपा जब-जब सत्ता में आती है सांप्रदायिक तनाव बढ़ता है। अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को भी यह बात समक्ष में आनी चाहिए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।