शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 09:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
'महिलाओं के बारे में त्याग दीजिये गलत धारणा'
इलाहाबाद, एजेंसी First Published:25-12-2012 06:07:03 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

दिल्ली में एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार की पृष्ठभूमि में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को कहा कि महिलाओं के खिलाफ आपराधिक हमले अक्सर उनके प्रति नकारात्मक धारणाओं के चलते होते हैं और उन्होंने इन धारणाओं को त्यागने का आह्वान किया।

राष्ट्रपति ने यहां मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के नौवें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार स्थिति के प्रति सतर्क है तथा यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठा रही है कि ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो।

उन्होंने कहा कि मैं बहादुर लड़की के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। समाज के कुछ तत्वों द्वारा महिलाओं के खिलाफ पैदा की जा रही और फैलायी जा रही नकारात्मक धारणा की पृष्ठभूमि में महिलाओं के खिलाफ आपराधिक हमले हो रहे हैं। इसका अंत होना चाहिए।

घटना पर अपनी गहरी हताशा जताते हुए मुखर्जी ने कहा कि हमें समाज के प्रत्येक सदस्य के मन में महिलाओं के लिए बेहद सम्मान पैदा करना होगा और देश के युवाओं को इस क्षेत्र में पहल करनी होगी।

उन्होंने इस बात की ओर ध्यान दिलाया कि वह इस वीभत्स घटना को लेकर युवाओं की जायज गुस्सा की सराहना करते हैं। उन्होंने युवाओं को याद दिलाया कि तर्क को ताक पर नहीं रख दिया जाना चाहिए। उन्हें अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखना चाहिए तथा शांतिपूर्ण ढंग से स्थिति का सामना करना चाहिए।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।