शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 20:00 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दूरसंचार नियामक ट्राई का कॉल ड्रॉप के लिए उपभोक्ताओं को मुआवजे का प्रस्ताव।RSS की बैठक में बोले मोदी, बड़े बदलाव के लिए काम कर रहे हैं, जल्द ही नतीजे सामने आएंगेपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान शामिल लोगों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 25 घायलदिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभ
पीड़िता के परिजनों के निशाने पर दिल्ली पुलिस
बलिया, एजेंसी First Published:06-01-2013 02:46:28 PMLast Updated:06-01-2013 04:06:58 PM
Image Loading

दिल्ली गैंगरेप कांड की भेंट चढ़ी पीड़िता के परिजनों ने इस मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा अदालत में दाखिल आरोपपत्र में कथित रूप से हत्या की धारा नहीं जोड़ने पर सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि अगर पुलिस की ऐसी ही नीयत और हरकतें रहीं तो उनकी बेटी को कभी इंसाफ नहीं मिल पाएगा।

पीड़ित लड़की के भाई ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा अदालत में दाखिल आरोपपत्र में हत्या की धारा नहीं जोड़े जाने की खबर अगर सच है तो यह बहुत गलत और आपत्तिजनक है। यह इतने संवेदनशील मामले पर पुलिस की घोर लापरवाही को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस का इस तरह का लापरवाही भरा रवैया रहा तो उनकी दिवंगत बहन तथा परिवार को न्याय नहीं मिल पाएगा।

लड़की के भाई ने कहा कि उनका परिवार दिल्ली पुलिस की कथित चूक के खिलाफ कानून के जानकारों से विचार-विमर्श करके आगे की कार्रवाई करेगा। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने शनिवार को अदालत में स्वीकार किया था कि गैंगरेप के बाद हत्या मामले में वह आरोपियों के खिलाफ हत्या के गम्भीर आरोप का जिक्र करना भूल गयी। उसने इसे टाइपिंग की गलती होने का दावा किया था।

लड़की के भाई ने अपनी बहन के मित्र के उस बयान को सही करार दिया है जिसमें कहा गया है कि दरिंदगी की शिकार हुई उस लड़की ने बलात्कारियों को जलाकर मार डालने की बात कही थी। उन्होंने मीडिया से अपील की कि वह उनकी निजता के अधिकार का सम्मान करें।

 

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।