शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 22:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में कई जगह लगा जाम, डीएनडी पर लगी है वाहनों की काफी लंबी कतार।भूमि अधिग्रहण कानून संबंधी अध्‍यादेश फिर से नहीं लाएगी सरकार।मुम्बई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की उपस्थिति में इंद्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना, ड्राइवर श्याम राय और मिखाइल बोरा से संयुक्त रूप से पूछताछ की गई।उत्तर प्रदेश की दलित जमीन पर सियासत की नींव मजबूत करने में जुटी भाजपा।
कांस्टेबल का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-12-2012 06:18:54 PMLast Updated:25-12-2012 08:15:31 PM
Image Loading

राष्ट्रीय राजधानी में पिछले सप्ताह चलती बस में 23 साल की युवती के साथ गैंगरेप के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान घायल हुए दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल सुभाष चंद तोमर का मंगलवार को निधन हो गया। तोमर का मंगलवार को ही राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मध्य दिल्ली के निगमबोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह, मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, केंद्रीय गृह सचिव आरके सिंह तथा दिल्ली के पुलिस आयुक्त नीरज कुमार सहित करीब 1,000 लोग मौजूद थे। तोमर को उनके बेटों दीपक तथा सोनू ने मुखाग्नि दी।

अस्पताल में भर्ती होने के बाद से वे वेंटिलेटर पर थे। तोमर उत्तर प्रदेश के मेरठ के रहने वाले थे। तोमर की नियुक्ति करावल नगर इलाके में थी। रविवार को प्रदर्शन के दौरान उन्हें कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए इंडिया गेट बुलाया गया था।

तोमर तिलक मार्ग पर घायल अवस्था में मिले थे। उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि रात के समय कांस्टेबल सुभाष तोमर की हालत बिगड़ने लगी थी और सुबह 6.30 बजे उनका निधन हो गया।

प्रदर्शनों के दौरान जब तोमर तिलक मार्ग पर गिर गए थे तो प्रदर्शनकारियों ने उनके साथ मारपीट की व उन्हें पैरों से कुचल दिया था। राम मनोहर लोहिया अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक तोमर की हालत गम्भीर थी और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।