शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 13:16 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ: दोस्तों के साथ आये युवा व्यापारी की चाकुओं से गोदकर हत्यारक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, अमित शाह से मिलने पहुंचे। 2.30 बजे रक्षा मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस, OROP की घोषणा संभवउत्तराखंड: पिथौरागढ़ में शिक्षकों ने सम्मान समारोह का बहिष्कार कर सड़क पर भीख मांगी, चार माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज हैं जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकहरियाणा के फरीदाबाद में 6 सितंबर से शुरु होगी मेट्रो, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन, सीएम खट्टर ने की प्रेस कांफ्रेंस
गैंगरेप के खिलाफ फूटा प्रदर्शनकारियों का गुस्सा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:22-12-2012 12:12:32 PMLast Updated:22-12-2012 01:29:15 PM
Image Loading

गैंगरेप की शिकार 23 वर्षीय पीड़िता के लिए न्याय की गुहार लगाने के लिए शनिवार को सैकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति भवन की ओर रैली निकालकर अपने गुस्से का इजहार किया।

पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह भी इंडिया गेट पर प्रदर्शनकारियों के साथ मिलकर राष्ट्रपति भवन की ओर बढ़े। इस मुद्दे पर लगातार छठे दिन से प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। सैकड़ों युवा आज सुबह इंडिया गेट के पास एकत्रित हुये और राजपथ के रास्ते से रायसीना पहाड़ी की ओर कूच किया।

रायसीना हिल्स में राष्ट्रपति भवन समेत प्रधानमंत्री कार्यालय एवं गृह मंत्रालय स्थित है। युवा छात्रों ने राजपथ पर स्थित सुरक्षा घेरा तोड़ दिया और रायसीना हिल्स तक पहुंच गये, जहां उन्हें रोक दिया गया। उल्लेखनीय है कि कल भी राष्ट्रपति भवन की ओर प्रदर्शन किया गया था।

प्रदर्शनकारियों के साथ शामिल वीके सिंह ने कहा कि आप देख रहे हैं कि प्रशासनिक प्रणाली विफल हो जाने के कारण यह समस्या उतपन्न हुयी है। पुलिस सुधार की योजना कई साल से ठंडे बस्ते में पड़ी है। उन्होंने इसके लिए क्यों कुछ भी नहीं किया.. हम पुलिस आयुक्त को यह कहते हुये क्यों सुनते हैं कि उनके पास कर्मचारियों की कमी है। यह बहुत शर्मनाक है।

पूर्व सेना अध्यक्ष ने कहा कि यह उनकी विफलता है। यह समस्या इसलिए उत्पन्न हुयी है क्योंकि इस देश में राजनीतिक और प्रशासनिक उदासीनता है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीचर्स डे पर तेंदुलकर ने आचरेकर सर को ऐसे किया 'सलाम'
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट के बल्लेबाजी के लगभग सभी बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान तक का दर्जा दिया गया है, लेकिन इन सबके पीछे एक इंसान का सबसे बड़ा योगदान रहा है, तेंदुलकर के गुरु रमाकांत आचरेकर।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।