शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 18:13 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में पुलिस टीम पर हमलाकांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत है
एनआरएचएम घोटाले की अगली सुनवाई 20 को
लखनऊ, एजेंसी First Published:11-12-12 02:16 PM
Image Loading

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने मंगलवार को लखनऊ के मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) कार्यालय में राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान (एनआरएचएम) में हुए कथित घोटाला मामले की अगली सुनवाई की तारीख 20 दिसम्बर निश्चित की है।

न्यायमूर्ति इम्तियाज मुर्तजा और न्यायमूर्ति अशोक पाल सिंह की खंडपीठ ने यह आदेश अधिवक्ता प्रिंस लेनिन की अर्जी पर दिया है। गत 23 नवम्बर को पिछली सुनवाई पर अदालत द्वारा दिये गये आदेश के मुताबिक सीबीआई के उपमहानिरीक्षक सम्बन्धित अन्य अधिकारियों के साथ न्यायालय में पेश हुए। उन्होंने अदालत को बताया कि मामले के विवेचक आरोपी परीदा को हटा दिया गया है और उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है।

अदालत में सीबीआई ने सीलबंद लिफाफे में रखकर मामले की स्थिति रिपोर्ट तथा जवाबी हलफनामा भी दायर किया। पीठ ने प्रस्तुत सामग्री का परीक्षण करने के बाद मामले की अगली सुनवाई आगामी 20 दिसम्बर को नियत कर दी। ज्ञातव्य है कि अदालत ने सीबीआई के उपमहानिरीक्षक को आज अदालत में पेश होने को कहा था।

मामले में याचिकाकर्ता वकील प्रिंस लेनिन ने पिछले साल हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर करके लखनऊ में दो मुख्य चिकित्साधिकारियों डॉक्टर वीके आर्या और डॉक्टर बीपी सिंह की हत्या की जांच सीबीआई के सुपुर्द किये जाने का आग्रह किया था। इसके तहत अदालत ने दोनों सीएमओ की हत्या समेत लखनऊ के सीएमओ दफ्तर में कथित एनआरएचएम घोटाले की तफ्तीश भी सीबीआई के सुपुर्द किया था।

लखनऊ सीएमओ दफ्तर में हुए कथित घोटाले के सिलसिले में हाल ही में सीबीआई ने जांच पूरी करके आरोप पत्र सम्बन्धित अदालत में दाखिल कर दिये थे। सिर्फ लखनऊ सीएमओ कार्यालय में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के मुद्दे पर अभी सीबीआई की तफ्तीश लम्बित है।

लेनिन ने एक नयी अर्जी प्रस्तुत करके लखनउ एनआरएचएम में सीबीआई की तफ्तीश पर सवाल उठाये थे। साथ ही यह आरोप भी लगाया है कि लखनऊ के कथित एनआरएचएम घोटाला मामले में सीबीआई ने रसूखदार लोगों को बचाकर सिर्फ छोटी मछलियों की तरफ ज्यादा ध्यान दिया है।

लेनिन ने इस बाबत विशेष जांच दल गठित कर उससे लखनऊ एनआरएचएम कथित घोटाला मामले की जांच कराने की गुजारिश की। गौरतलब है कि हाईकोर्ट लखनऊ में दो मुख्य चिकित्साधिकारियों की हत्या तथा लखनऊ सीएमओ दफ्तर में कथित एनआरएचएम घोटाला मामले की तफ्तीश की निगरानी कर रहा है।

 

 
 
 
 
टिप्पणियाँ