शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 12:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
जम्मू के सोपोर में सरपंच की हत्या, संदिग्धों ने गोली मारकर सरपंच गुलाम अहमद भट्ट की हत्या की।झारखंड: पोडैयाहाट के बूथ नंबर 133 पर फर्जी़ वोटिंग को लेकर दो लोग गिरफ़तारयूपी: मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना क्षेत्र के गांव परासौली के धार्मिक स्थल में देर रात असामाजिक तत्व ने जानवरों के कटे हुए सिर रखे, नंदी की मूर्ति भी चुराई, तनाव, एडीएम प्रशासन सहित कई आलाधिकारी मौके पर पहुंचे, पीएसएसी व पुलिस बल तैनातजम्मू में सुबह 10 बजे तक 12.09 प्रतिशत मतदान।ब्रिस्बेन टेस्ट : 4 विकेट से हारा भारतझारखंड: सुबह 11 बजे तक जामताड़ा-34, नाला-35, बोरियो-33, राजमहल-33, बरहेट-40, पाकुड़-41, लिट्टीपाड़ा-40, महेशपुर-39, दुमका-31, जामा-33, जरमुंडी-37, शिकारीपाड़ा-35, सारठ-39, पोड़ैयाहाट-37, गोड्डा-28, महगामा-35 प्रतिशत मतदान हुआझारखंड: गोड्डा के बूथ-315,316 पर भजपा प्रत्याशी के बेटा पर मारपीट करने का आरोप, आधे घंटे बाधित हुआ मतदानझारखंड: लिट्टीपाड़ा बूथ नं 32 धूप निकलने के साथ निकले मतदाता, मतदान केंद्र से सड़क तक लगी लंबी लाइनझारखंड: चित्र आदर्श बूथ पर विधानसभा अध्यक्ष शशांक शेखर के परिजनों ने डाला वोटझारखंड : भाजपा प्रत्याशी लुइस मरांडी ने दुमका में बूथ-68 पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर पैसा बांटने का आरोप लगाया, प्रशासन से की शिकायत, एसडीओ ने थानेदार को तत्काल जांच करने भेजाजम्मू-कश्मीर: राज्य की 87 सदस्यीय विधानसभा में नेकां के 28, पीडीपी के 21, कांग्रेस के 17 और भाजपा के 11 विधायक हैं।जम्मू-कश्मीर: पिछले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इन 20 में से 11, कांग्रेस ने पांच और नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) ने तीन सीटों पर जीत हासिल की थी। पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) एक सीट पर ही सिमट कर रह गई थी।झारखंड : बोरियो विस क्षेत्र के बूथ नंबर 67 पर चुनाव को लेकर बढ़ी चौकसीझारखंड: लिट्टीपाड़ा के फतेहपुर गांव की महिलाओं को उम्मीद कि नई सरकार पेयजल की समस्या हल करेगीदुमका विधानसभा क्षेत्र के माहरो बूथ पर लगी लंबी कतार, दुमका सीट से मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन लड़ रहे हैंसाहिबगंज जिले के उधवा में मौसम भी मेहरबान रहा, सुबह धूप निकली, मतदाताओं में उत्‍साहजम्मू के डिवीजनल कमिश्नर अजित कुमार साहू का कहना है कि मतदाताओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। ठंड के बावजूद बड़ी संख्या में लोग वोट डालने आ रहे हैं। साहू ने कहा कि हमने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं और कहीं से भी हिंसा की कोई खबर नहीं है।राजौरी में मतदान करने के बाद एक वोटर ने कहा कि लोगों में मतदान को लेकर उत्साह है और सभी जगह शांतिपूर्ण तरीके से मतदान चल रहा है।शुक्रवार की रात नौशेरा में पीडीपी कार्यकर्ताओं के हमले में घायल भाजपा प्रत्याशी रविंद्र रैना को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।यूपी: अमरोहा के चौधरपुर गांव में युवक की गला घोंट कर हत्या, सुबह घर के बाहर मिला शव, पुलिस पूछताछ में जुटीदुमका के कुछ वोटरों से हिन्दुस्तान ने बातचीत कर जानना चाहा कि उनकी वोटिंग का आधार क्या है? 35 साल के सत्येंद्र सिंह का कहना है स्थायी सरकार मुद्दा है, तो 42 साल के जवाहर लाल का कहना है कि शिक्षा के क्षेत्र में विकास है मुद्दा।झारखंड: सुबह 9 बजे तक जामताड़ा-13, नाला-11, बोरियो-20, राजमहल-18, बरहेट-11, पाकुड़-16, लिट्टीपाड़ा-16, महेशपुर-18,दुमका-11, जामा-14, जरमुंडी-12, शिकारीपाड़ा-14, सारठ-14, पोड़ैयाहाट-11, गोड्डा-12, महगामा-10 प्रतिशत मतदान हुआझारखंड: पाकुड़ जिले के लिट्टीपाड़ा विस क्षेत्र में बूथ-134 में बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर हुआ बहिष्कार, 9 बजे फिर शुरू हुआ मतदानझारखंड : बोरियो के बूथ नं 208 में एक घंटे में 124 वोट पड़े
नंदनवन की होली..
रेनू सैनी First Published:06-03-12 04:25 PM

होली के दिन सभी के घरों से मीठे-मीठे और खुशबूदार पकवानों की सुंगध आ रही थी। सभी दोस्तों ने पहले पेट-पूजा करने का निर्णय लिया था और उसके बाद रंगों व पानी से होली खेलने का। पार्क में सुबह-सुबह सभी होली-मिलन समारोह मनाने के लिए तैयारियों में जुटे हुए थे। कुछ ही देर में तैयारियां हो गईं। सभी घरों से पकवान थालियों में सजकर पार्क में लग गए

चीनू खरगोश इन दिनों बहुत खुश था। होली आने में कुछ ही दिन रह गए थे। वह हमेशा होली के त्योहार को अपने परिवार व दोस्तों के साथ बड़ी धूमधाम से मनाता था। चीनू बहुत ही मददगार, होशियार व समझदार था। पढ़ाई के साथ-साथ वह अन्य गतिविधियों में भी सबसे आगे रहता था।

मीनू चिड़िया, सुंदरी मोरनी, कालू कौआ, लम्पू लोमड़ी, मोटू हाथी आदि सभी उसके बहुत अच्छे दोस्त थे। होली के दिन सारे दोस्त नंदनवन के बड़े पार्क में इकट्ठे हो जाते थे और एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर रंगों से होली खेलते थे। एक दिन चीनू खरगोश होली की योजना बनाने के लिए मोटू हाथी के पास गया। मोटू हाथी ने उसे देखा और जल्दी से अपने सामान को इधर-उधर कर दिया। चतुर चीनू ने मोटू हाथी को कुछ छिपाते हुए देख लिया, लेकिन वह चुप रहा। दोनों होली की योजनाएं बनाते रहे। कुछ ही देर में मोटू हाथी की मम्मी मिंटू हथिनी दोनों के लिए चाय-नाश्ता लेकर आई। सभी मिलकर नाश्ता करने लगे। अचानक मोटू हाथी के कपड़ों पर चाय गिर गई और वह अपने कपड़े बदलने के लिए बाथरूम में चला गया। तभी चीनू खरगोश ने मिंटू हथिनी को परेशान देखा और उनसे उनकी परेशानी पूछी। सारी बातें जानकर चीनू ने मिंटू हथिनी को अपनी होली की योजना और बातों से खुश कर दिया।

होली के दिन सभी के घरों से मीठे-मीठे और खुशबूदार पकवानों की सुंगध आ रही थी। सभी दोस्तों ने पहले पेट-पूजा करने का निर्णय लिया था और उसके बाद रंगों व पानी से होली खेलने का। पार्क में सुबह-सुबह सभी होली-मिलन समारोह मनाने के लिए तैयारियों में जुटे हुए थे। कुछ ही देर में तैयारियां हो गईं। सभी घरों से पकवान थालियों में सजकर पार्क में लग गए। पूरे जंगल के पशु-पक्षियों ने मिलकर दावत उड़ाई और आपसी बैर-भाव भूलकर एक-दूसरे को गले लगाया। सभी के चेहरों पर प्रसन्नता झलक रही थी, किंतु मोटू हाथी कुछ विशेष ही प्रसन्न दिखाई दे रहा था। उसका खाने से ज्यादा ध्यान रंगों से होली खेलने पर लगा हुआ था। वह बार-बार यही कह रहा था, ‘यार जल्दी खाओ, अगर खाने में इतनी देर लगाओगे तो होली कब खेलेंगे?’ मोटू हाथी की बात पर सभी मुस्करा दिए। केवल चीनू खरगोश बोला, ‘क्या बात है मोटू, आज तुम्हें खाने से ज्यादा होली खेलने की पड़ी है। तुम तो सबसे पहले दावत पर हाथ साफ करते हो। आज क्या बात है? इरादे तो नेक हैं न!’ चीनू की बात पर मोटू हाथी मुस्करा कर बोला, ‘अरे यार, मैं तो बस इसलिए बोल रहा हूं कि यह त्योहार साल में एक बार ही तो आता है। ऐसे में यदि इसे मन से और समय पर न खेल पाए तो सब गड़बड़ हो जाएगा।’ अंतिम बात बोलकर मोटू हाथी कुछ सकपकाया और फिर खाने की टेबल की ओर चल दिया। आखिर मोटू हाथी के इंतजार की घड़ियां खत्म हुईं। सभी अपनी-अपनी पिचकारी और रंग लेकर एक-दूसरे पर रंग बरसाने लगे। पूरा नंदनवन रंगों की महक और गुलाल से रंगीन हो गया। मोटू हाथी दौड़कर पार्क के कोने में गया और वहां से रंगों को अपनी सूंड़ में भर कर लाया और सब पर उड़ेल दिया। जैसे ही मोटू हाथी ने पशु-पक्षियों पर रंगों की बरसात की, वैसे ही पूरा पार्क विभिन्न तरह के फूलों की खुशबू से महक उठा।
सभी मोटू हाथी के प्राकृतिक रंगों को देखकर खुशी से नाचने लगे। किंतु मोटू हाथी प्राकृतिक रंगों को देखकर परेशान हो गया। उसे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि यह क्या हो रहा है? खैर, होली-मिलन समारोह में चंदनवन के राजा मुख्य अतिथि बनकर आए हुए थे, इसलिए वह चुपचाप होली खेलता रहा। सभी ने जी भरकर एक-दूसरे पर रंग डाला और दुश्मनी को भूलकर दोस्ती का हाथ बढ़ाया। शाम के समय होली का खुमार उतर चला था और सभी अपने-अपने घरों में रंग-बिरंगे कपड़ों को उतार कर नहा कर आराम कर रहे थे। तभी चीनू, मोटू हाथी के घर पर जा पहुंचा। मिंटू हथिनी ने चीनू खरगोश का स्वागत बड़ी गर्मजोशी से किया। चीनू मोटू हाथी के ऊपर चढ़ गया और बोला, ‘क्यों दोस्त, आज की होली लगी न मजेदार! तुम्हारे ग्रीस, पक्के रंगों और कीचड़ की जगह खुशबूदार रंगों ने सभी को मोहित कर दिया और तुम आज के कार्यक्रम के सरताज बन गए।’ चीनू की बात सुनकर मोटू हैरानी से आंखें फाड़कर बोला, ‘तो..वह शरारत तुम्हारी थी।’

यह जवाब सुनकर चीनू बोला, ‘दोस्त, शरारत नहीं, समझदारी कहो। फिर वह मिंटू हथिनी की तरफ देखकर बोला, ‘आंटी ने मुझे उस दिन तुम्हारी इस गंदी शरारत के बारे में बता दिया था कि कैसे इस बार तुम सबको केमिकल के पक्के रंगों, ग्रीस व कीचड़ आदि से रंगने की सोच रहे हो। दोस्त, तुम चाहे इन रंगों से होली खेलकर खुश हो जाते, लेकिन इन रंगों से होने वाले नुकसान की भरपाई तुम पूरे जीवनभर नहीं कर पाते। तुम्हें पता है, केमिकल से मिल कर बने हुए पक्के रंग त्वचा में कैंसर और चमड़ी की बीमारियों को पैदा करते हैं। आंख, नाक में जाने पर इन रंगों से आंखें जा सकती हैं और नाक, कान व मुंह के द्वारा यह हमारे शरीर के अंदरूनी हिस्सों को चोट पहुंचा सकते हैं।

यहां तक कि कभी-कभी ये मौत का कारण भी बन जाते हैं।’

ये बातें सुनकर मोटू हाथी दंग रह गया और बोला, ‘मैंने तो कल्पना भी नहीं की थी कि इन मामूली से रंगों के द्वारा मेरे दोस्तों को इतना भारी नुकसान पहुंच सकता है। दोस्त, सचमुच फूलों के द्वारा प्राकृतिक रंग बनाकर तुमने आज न सिर्फ मेरी इज्जत बढ़ाई है, बल्कि मुझे ऐसी सीख दी है, जो मुझे आजीवन याद रहेगी। अब हर होली पर मैं फिजां में प्राकृतिक रंग ही बरसाऊंगा और अपने दोस्तों के साथ-साथ अपने सुंदर नंदनवन को और भी सुंदर बनाऊंगा।’ यह सुनकर चीनू खरगोश बोला, ‘शाबाश! यह हुई न बात।’ इसके बाद दोनों हंसकर एक-दूसरे के गले लग गए और मोटू ने प्यार से चीनू को अपनी पीठ पर बिठा लिया।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड