सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 23:21 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    श्रीनिवासन आईपीएल टीम मालिक और बीसीसीआई अध्यक्ष एकसाथ कैसे: सुप्रीम कोर्ट  झारखंड और जम्मू-कश्मीर में पहले चरण की वोटिंग कल  पार्टियों ने वोटरों को लुभाने के लिए किया रेडियो का इस्तेमाल सांसद बनने के बाद छोड़ दिया अभिनय : ईरानी  सरकार और संसद में बैठे लोग मिलकर देश आगे बढाएं :मोदी ग्लोबल वॉर्मिंग से गरीबी की लड़ाई पड़ सकती है कमजोर: विश्व बैंक सोयूज अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना  वरिष्ठ नेता मुरली देवड़ा का निधन, मोदी ने जताया शोक  छह साल बाद पाक के पास होंगे 200 एटमी हथियार अलग विदर्भ के लिए गडकरी ने कांग्रेस से समर्थन मांगा
परफेक्शन है बहुत जरूरी: सुमित सौरभ
हिन्दुस्तान नई दिशाएं First Published:05-12-12 02:06 PM
Image Loading

सुमित सौरभ, प्रबंधक (डिजाइन सर्कल)
निफ्ट दिल्ली से टेक्सटाइल डिजाइनिंग का कोर्स करने के दौरान मुझे लगा कि इस क्षेत्र में परफेक्शन की कमी है। जो भी इस क्षेत्र में करियर बनाने आए, वह परफेक्ट होकर बाहर जाए। उसे इस क्षेत्र की पूरी-पूरी जानकारी हो। प्रोडक्शन से लेकर मार्केटिंग, मैनेजमेंट और रिटेल तक में उसकी पकड़ हो। इसी के तहत मैंने 2009 में डिजाइन सर्कल की स्थापना की। कोचिंग सेंटर का उद्देश्य सुपर 15 मॉडल के आधार पर फैशन एवं डिजाइनिंग में करियर बनाने के लिए देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश के इच्छुक छात्र-छात्राओं को कोचिंग देना है, जहां निफ्ट/ एनआईडी/ एफडीडीआई में दाखिले के लिए तैयारी करवाई जाती है। यह सिलसिला बीते चार सालों से चल रहा है। अक्सर लोगों को यह लगता है कि डिजाइनर सपनों की दुनिया में विचरण करते हैं, लेकिन असलियत यह है कि उनका काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है, क्योंकि बाजार की मांग के अनुरूप किसी खास प्रोडक्ट, सीजन और प्राइज को ध्यान में रख कर उन्हें काम करना पडम्ता है। पिछले कुछ वर्षों में यह क्षेत्र तेजी से बदला है। मेरा मानना है कि इस क्षेत्र में कामयाबी के लिए कोचिंग के साथ-साथ सही मार्गदर्शन की भी जरूरत है। जब तक सोच क्रिएटिव नहीं होगी आप कामयाब नहीं हो सकते। आप स्कैचिंग बढिया करते हैं, लेकिन दिमाग और हाथ दोनों बराबर चलने चाहिए। अगर तरक्की करनी है तो दिल-दिमाग दोनों खुले रखने होंगे। किसी इंस्टीटय़ूट से डिग्री तो हासिल कर लेंगे, लेकिन सिर्फ उससे काम नहीं चलेगा, जागरूकता बहुत जरूरी है। कौन-सा नया ट्रेंड आया है, इसकी जानकारी जरूरी है। आपकी ड्राइंग अच्छी है, नये ट्रेंड्स की जानकारी भी है, इस फील्ड के लोगों से आपकी जान-पहचान भी अच्छी है, लेकिन इंग्लिश भाषा पर पकड़ नहीं है तो भी आप पिछड़ जाएंगे।

 
 
 
टिप्पणियाँ