सोमवार, 25 मई, 2015 | 10:54 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ये हैं मोदी सरकार की 25 बड़ी उपलब्धियां और 25 चुनौतियां सेक्सी नहीं, फाइटर के रूप में पहचान चाहती हैं रोसी रामपुर: ट्रांसफार्मर में आग लगने से मची भगदड़ CBSE 12वीं का रिजल्ट आज, गणित में मिलेंगे ग्रेस मार्क्स नोबेल पुरस्कार विजेता मशहूर अर्थशास्त्री जॉन नैश का निधन अब ओपन कैबिनेट मीटिंग कैसे कर पाएंगे अरविंद केजरीवाल मथुरा में आज मोदी की रैली, धमकी देने वाला गिरफ्तार आईपीएल 8 में लगातार चार मैच हार चुकी थी मुंबई इंडियंस, और फिर... मोदी सरकार को केजरीवाल से एलर्जी: सिसोदिया  चेन्नई सुपरकिंग्स को हराकर मुंबई इंडियन्स बना आईपीएल चैम्पियन
रॉकेट कैसे ऊपर जाता है?
हिन्दुस्तान रीमिक्स First Published:07-01-13 12:21 PM
Image Loading

रॉकेट जब छोड़ा जाता है तो उसके नीचे से आग की एक पूंछ निकलती है और फिर वह ऊपर उठता है। दरअसल, रॉकेट में ईंधन जलता है, जिससे गर्म गैस निकलती है। स्पेस शटल में तरल हाइड्रोजन और ठोस प्रोपालेंट का उपयोग होता है। ठोस प्रोपालेंट जलता है, पर विस्फोटक नहीं होता। रॉकेट को पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल से बाहर निकालना आसान काम नहीं होता है। इसमें एक बंद चैंबर में विस्फोटक रासायनिक प्रक्रिया होती है, जिससे रॉकेट के पीछे के भाग से कोन के आकार में गर्म गैसें निकलती हैं। इसी ऊर्जा से रॉकेट का इंजन 16,000 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से जमीन से ऊपर उठ पाता है। इंजन रॉकेट लॉन्च के 2 मिनट बाद ही शटल से अलग हो जाता है। रॉकेट का बाहरी टैंक भी कुछ देर बाद ही खाली हो जाता है, पर तब तक रॉकेट अंतरिक्ष में बहुत दूर जा चुका होता है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड