रविवार, 02 अगस्त, 2015 | 07:47 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार का चुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, झारखंड के भाजपाइयों ने डाला बिहार में डाला याकूब को फांसी दिए जाने के विरोध में सुप्रीम कोर्ट के डिप्टी रजिस्ट्रार ने दिया इस्तीफा दिल्ली में तेज हुआ पोस्टर वार, केजरीवाल सरकार के विज्ञापनों के खिलाफ भाजपा ने लगाए पोस्टर पूर्व गृह मंत्री सुशील शिंदे ने कहा, मैंने संसद में हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया  पाकिस्तानी रेंजर्स ने किया सीजफायर का उल्लंघन, बीएसफ ने दिया करारा जवाब खेल रत्न के लिए सानिया के नाम की सिफारिश भाजपा सांसद वरुण गांधी का बयान, 94 फीसदी दलित, अल्पसंख्यक समुदाय को मिली फांसी की सजा विमान हादसे में ओसामा बिन लादेन के परिवार के सदस्यों की मौत  10 रुपए में ऐप उपलब्ध कराएगा गूगल प्ले  ISIS की शर्मनाक हरकत: चार साल के बच्चे को दी तलवार और कहा...मां का सिर काट डालो
डॉग ग्रूमिंग का मनोरंजक कार्य
mint First Published:18-12-2012 12:29:13 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

कुत्तों की देखभाल में मन रमाने वाली पूजा साठे अपने काम को नित नए रूप देने का प्रयास करती हैं।
यदि आपको कुत्ते अच्छे लगते हैं तो पूजा साठे का काम आपको पसंद आएगा। पच्चीस वर्षीय पूजा हर सुबह कुत्तों को फिटनेस ट्रेनिंग देती हैं, उसके बाद वह मुंबई स्थित अपने दफ्तर टेलवैगर्स सैलून जाती हैं, जहां अनेक लैब्राडोर्स, स्पेनियल्स, जर्मन शेफर्डस और पॉमेरियंस को नहलाने और उनकी ग्रूमिंग का काम करती हैं। शाम के समय वह कुत्ते पालने वाले लोगों को उनके पपीज को ठीक से रखने और नई नस्ल के पैदा होने पर बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बताती हैं। इतना ही नहीं, पूजा सप्ताहांत पर दूर खुले स्थानों में कुत्तों और उनके मालिकों को बुला कर खेल खेलने और ट्रैकिंग के रोचक अवसर भी उपलब्ध कराती हैं।

पूजा को शुरू से ही जानवरों से स्नेह था और एक एनजीओ- इन डिफेंस ऑफ एनिमल्स से एक स्वयंसेवी के तौर पर जुड़ कर अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद उन्होंने अमेरिका और इंग्लैंड जाकर इस क्षेत्र के प्रशिक्षण में कुछ समय बिताया और अब गत चार वर्षों से डॉग ग्रूमिंग का कार्य कर रही हैं। टेलवैगर्स में उनके डॉग ग्रूमिंग के कार्य की शुरुआत गत छह माह से हुई है, क्योंकि वह सीधे-सीधे कुत्तों के पालन-पोषण का काम करना चाहती थीं। वह बताती हैं, ‘ग्रूमिंग के समय जानवरों का एक बिल्कुल नया रूप सामने आता है। मुख्यत: सारा ध्यान उनके आराम पर दिया जाता है, केवल उन्हें देखने या उनकी साफ-सफाई करने में नहीं।’ पूजा के कार्य में जानवरों को नहलाना, त्वचा रोगों के लिए दवा देना और बाल काटना जुड़ा होता है। बड़े और मजबूत कुत्तों के उनके समस्त ट्रेनिंग अनुभव के बाद पूजा का कहना है, ‘कुत्तों के साथ कोई समस्या नहीं होती, समस्या उनके मालिकों के साथ होती है।’

अपने सैलून में बाल काटने का सबसे पसंदीदा प्रत्याशी पूजा की नजर में लहासा है। वह बताती हैं, ‘लंबे बालों वाले इस जानवर के बालों को मनचाहा आकार दे सकते हैं।’ अनेक नस्लों के कुत्तों को अलग-अलग ग्रूमिंग कराने के बाद पूजा अपने पालतू लैबड्रोर जैज के साथ समय बिताती हैं। जैज के बारे में वह बताती हैं,‘पहले 15 मिनट तक वह मुझे सूंघता है और फिर चाहता है कि मैं उसके साथ खेलूं। उसे इस बात से कोई मतलब नहीं होता कि मैं थकी हुई हूं या नहीं।’

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingआक्रामक शैली बरकरार रखें कोहली: द्रविड़
राहुल द्रविड़ को बतौर टेस्ट कप्तान श्रीलंका में पहली पूर्ण सीरीज खेलने जा रहे विराट कोहली के कामयाब रहने का यकीन है और उन्होंने कहा कि कोहली को अपनी आक्रामक शैली नहीं छोड़नी चाहिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?