शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 21:53 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
छोटे से अब बड़े परदे पर मधुरिमा
दीपक First Published:15-12-12 12:03 PM
Image Loading

छोटे पर्दे के जाने-पहचाने चेहरों में शुमार हैं मधुरिमा तुली। करीब छह साल पहले फिल्मी दुनिया का हिस्सा बनी मधुरिमा जी टीवी के शो ‘झांसी की रानी’, स्टार वन के ‘रंग बदलती ओढ़नी’ वगैरह में आ चुकी हैं। लेकिन अब उन्हें बड़े पर्दे पर देखा जा सकता है। इस हफ्ते रिलीज हुई फिल्म ‘सिगरेट की तरह’ की नायिका मधुरिमा ही हैं। वैसे वह इससे पहले भी फिल्में कर चुकी हैं। पिछले साल रितेश कांत की कॉमेडी फिल्म ‘क्या करें क्या न करें’ में भी वह दिखाई दी थीं। पिछले ही साल वह इसलिए भी खबरों में आई थीं जब एकता कपूर ने उन्हें अपने सीरियल ‘परिचय’ में लेने के बाद बिना बताए बाहर कर दिया था और उन्होंने अपने इंटरव्यूज में एकता को खरी-खरी सुनाई थी। वैसे इन सब से ज्यादा चर्चा मधुरिमा को इंगलिश फिल्म ‘लीथल कमीशन’ से मिली थी जिसमें उन्होंने एक काफी लंबा बिकनी शॉट दिया था।

‘सिगरेट की तरह’ में अपने काम को लेकर मधुरिमा काफी उत्साहित नजर आती हैं। वह बताती हैं, ‘मैं इस फिल्म में जेसिका नाम की लड़की का रोल कर रही हूं जो एक बहुत ही बोल्ड, बहुत ही ब्यूटीफुल और इंटेलीजेंट लड़की है लेकिन साथ ही उसमें एटिट्यूड भी है। अगर उसे कोई इंसान पसंद नहीं है तो नहीं है। लेकिन वह दिल की बहुत ही सॉफ्ट है। शुरू-शुरू में वह यह दिखाती है कि वह बहुत हॉट है, हूर की परी है लेकिन फिर धीरे-धीरे उसका जो सॉफ्ट चेहरा है वह सामने आता है और वह पिघलने लगती है।’

मधुरिमा आगे बताती हैं कि जब उन्हें यह फिल्म मिली तो वह थोड़ी मोटी हुआ करती थीं लेकिन इस फिल्म और रोल की डिमांड को देखते हुए उन्होंने अपनी फिटनेस पर ध्यान दिया और खुद को इस रोल के मुताबिक स्लिम बना डाला। फिल्म के अनोखे नाम के बारे में वह बताती हैं, ‘असल में इस फिल्म की कहानी चार प्रमुख किरदारों के इर्द-गिर्द घूमती है जिनमें कोई किसी को चाहता है तो वह किसी और को और वह तीसरा किसी और को। ये लोग एक-दूसरे को हासिल करने की जद्दोजहद में हैं और एक-दूसरे को चाह कर भी छोड़ नहीं पाते जैसे कोई इंसान सिगरेट को नहीं छोड़ पाता।’

 
 
 
टिप्पणियाँ