शुक्रवार, 27 फरवरी, 2015 | 13:00 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि आने वाले वर्षों में आर्थिक वृद्धि दर 8 से 10 प्रतिशत के बीच संभव है। वर्ष 2014-15 में वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत रहने का अनुमान है।गोधरा दंगों के बाद गुजरात के हिम्मतनगर जिले में तीन ब्रितानी लोगों की हत्या के मामले में स्थानीय अदालत ने छह लोगों को बरी किया।देश में विकास का अच्छा माहौल: आर्थिक सर्वे।2014-15 में विकास घरेलू मांग के कारण: आर्थिक सर्वे।बरेली- बीएसएफ के भिटौरा कैंप में स्‍वाइन फ़लू की दहशत, तबियत खराब होने पर जिला अस्‍पताल लाए गए 10 जवान, स्‍वाइन फ़लू के संदेह में कराया जा रहा मेडिकल परीक्षण, जांच को लखनऊ भेजे जा रहे नमूने।अप्रैल-दिसंबर के बीच महंगाई दर घटी: आर्थिक सर्वे।8 फीसदी विकास दर का अनुमान: आर्थिक सर्वे।लोकसभा में आर्थिक सर्वेक्षण पेश
समय पर लें संतुलित आहार
हिन्दुस्तान रीमिक्स First Published:02-01-13 01:08 PM
Image Loading

इस साल आप अपनी डाइट का पूरा खयाल रखेंगे, इसका प्रण लें। खाने में आप चावल, दाल, रोटी, सब्जियां तो लेते ही हैं, लेकिन कुछ और बातों का थोड़ा खयाल रखकर अपनी सेहत को और बेहतर बनाए रख सकते हैं। खाने में अंकुरित अनाज, मेवे, मूंगफली, तिल (सर्दियों में), हर हफ्ते पांच रंग के फल जिनमें केला, सेब, संतरा, अमरूद आदि को शामिल कर सकते हैं, गाजर-मूली जैसी कुछ कच्चा चबाने योग्य सब्जियां, जिनमें एंजाइम होते हैं, तुलसी, इलायची, लहसुन आदि हर्ब, अंकुरित मेथी(खासकर डायबिटीज और हार्मोनल असंतुलन की स्थिति में बेहद फायदेमंद हैं), चोकर वाले अनाज, पत्तेदार सब्जियां पकाकर नियमित रूप से लें।

सर्दी के मौसम में घी के सेवन से बचें। अगर नॉनवेज लेते हैं तो उसकी मात्रा सीमित रखें, क्योंकि उसे पचाने के लिए शरीर को जितना काम करना चाहिए, आज की जीवनशैली में वह उतना काम नहीं कर पाता। सर्दी में गुनगुना या गर्म पानी और बाकी मौसम में सादा पानी खूब पिएं। चाय या कॉफी दो कप से ज्यादा न लें। अगर इससे ज्यादा की जरूरत महसूस होती है तो हर्बल टी ले सकते हैं, जो आजकल बड़ी आसानी से मिल जाती है।

अगर आप मॉडलिंग या ग्लैमर के पेशे से नहीं जुड़े हैं या बॉडी बनाने की मजबूरी नहीं है तो आपके लिए दिनभर में चार बार खाना पर्याप्त रहेगा। इनका समय तय करें और उसका पालन करें। सुबह में 8-8.30 बजे के बीच नाश्ता कर लें। इस बात का ध्यान रखें कि यह नाश्ता हैवी हो। दोपहर का खाना एक बजे, शाम का नाश्ता 4 बजे और रात का खाना 7-8 बजे के बीच खा लें। इस बात का ध्यान रखें कि एक बार में अपने हाथ की अंजुरी से ज्यादा खाना न खाएं। भूख से थोड़ा कम ही खाएं। तला हुआ खाना फेस्टिवल के लिए ही छोड़ दें। ज्यादा तला हुआ खाना सेहत का दुश्मन साबित हो सकता है। खाने का पूरा खयाल रखने से पाचन शक्ति भी ठीक रहेगी और शरीर को समय पर पर्याप्त आहार भी मिलता रहेगा। अगर आप ग्लैमर जगत से जुड़े हैं या मसल्स बनाने का शौक है तो आपको थोड़ा-थोड़ा करके छह बार खाना चाहिए। जिम जाते हैं तो विशेषज्ञ की सलाह का पालन करें। मौसम व उम्र के अनुसार अतिरिक्त डोज की जरूरत महसूस करें तो प्राकृतिक चीजों पर ही ध्यान दें।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड