शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 22:37 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में कई जगह लगा जाम, डीएनडी पर लगी है वाहनों की काफी लंबी कतार।भूमि अधिग्रहण कानून संबंधी अध्‍यादेश फिर से नहीं लाएगी सरकार।मुम्बई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की उपस्थिति में इंद्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना, ड्राइवर श्याम राय और मिखाइल बोरा से संयुक्त रूप से पूछताछ की गई।उत्तर प्रदेश की दलित जमीन पर सियासत की नींव मजबूत करने में जुटी भाजपा।
रसोई में लाएं तहजीब की खुशबू
इंदु जैन First Published:13-12-2012 11:00:22 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

रसोई एक ऐसा स्थान है, जिसका जितना संबंध स्वाद से होता है, उससे अधिक अच्छी सेहत से होता है। रसोई में काम करने का सलीका और वहां रहने वाली साफ-सफाई न सिर्फ आपकी कार्यकुशलता को दर्शाती है, बल्कि पूरे परिवार का स्वास्थ्य भी इससे जुड़ा है। रसोई एटीकेट्स के बारे में बता रही हैं इंदु जैन

रसोईघर एक ऐसा स्थान है, जहां से हमारे शरीर की सबसे बड़ी जरूरत स्वाद और सेहत दोनों की पूर्ति होती है। रसोई में स्वच्छता की कमी इस जरूरी स्थान को रोग फैलाने वाले कीटाणुओं का घर बना देती है, जिसका नतीजा होता है कि रसोई में बनाए जाने वाले खाद्य पदार्थ संक्रमित हो जाते हैं और घर के सदस्यों को आए दिन छोटी-छोटी बीमारियां घेरे रखती हैं। रसोई की सफाई का संबंध रसोई में काम करने के सलीके से जुड़ा है।

डिटॉल के इंटरनेशनल होम हाइजिन स्टडी के अनुसार, घरों में रसोई की साफ-सफाई में प्रयोग किए जाने वाले कपड़े सबसे अधिक गंदे और संक्रमित होते हैं। सामान्य पानी से धोने से ये कपड़े पूरी तरह साफ नहीं होते। खाद्य पदार्थों को पोंछने या फिर डिब्बों की सफाई में इनका इस्तेमाल संक्रमण की आशंका को बढ़ देता है। ऐसे में रसोई में साफ-सफाई के लिए एक से अधिक कपड़े का होना जरूरी है। गीले और सूखे कपड़े के लिए भी अलग स्थान निर्धारित करें। उन्हें नियमित धोएं। रसोई में एक छोटा तौलिया रखना और खाना बनाते समय एप्रैन पहनना भी बेहतर आचरण की निशानी है। 

फल-सब्जी काटकर चाकू और चॉपर बोर्ड को तुरंत साफ करना न भूलें। इनमें फंसे रहने वाला अंश या फिर सूखा हुआ रस कीटाणुओं की उत्पत्ति का कारण बन जाता है। ऐसे में दूसरी खाद्य वस्तुएं इनके संपर्क में आने पर संक्रमित हो जाती हैं। खाना बनाने के बाद स्लेब, गैस, नल, सिंक आदि की सफाई अवश्य करें। फ्रिज, माइक्रोवेव, शेल्फ आदि की समय-समय पर सफाई करना जरूरी है।

रसोई में नाली या मोरी की जगह ज्यादा नमी होती है, इसलिए चींटी व कॉकरोच वहीं सबसे अधिक होते हैं। रात में काम के बाद इन स्थानों को गीला न छोड़े। समय-समय पर फिनाइल व अन्य रसायनों का छिड़काव करती रहें। रसोई में खिड़की है तो उसे थोड़ी देर खुला अवश्य छोड़ें। ताजी हवा और रोशनी अंदर आएगी। सूर्य की रोशनी कई तरह के संक्रमणों से मुक्त रखती है।

उपयोगी किचन टिप्स
गैस और स्लैब की सफाई के लिए पुराने हो गये नायलॉन की जुराबों या फिर स्पंज का प्रयोग करें। जूसर, ग्राइंडर, माइक्रोवेव और स्विच बोर्ड को साफ करने के लिए दो चम्मच लिक्विड ब्लीच मिलाकर और उसे साफ कपड़े में भिगोकर सफाई करें।

कुकर, भगोना, कड़ाही और दूसरे अन्य झूठे बर्तनों को खाली होने पर उन्हें तुरंत पानी से भर दें। इससे उन पर खाद्य पदार्थों का अंश जमेगा नहीं और उन्हें साफ करना भी बहुत आसान हो जाएगा।

यह याद रखें कि हर चीज के लिए रसोईघर में बड़े-बड़े डिब्बों से जगह को बिल्कुल भी नहीं घेरें।

टूटे हुए स्टील या कांच के बर्तनों का इस्तेमाल न करें।

फ्रिज या रसोई में जूठा खाना खुला कभी न रखें। जितना जल्दी हो सके उसे तरीके से निपटा दें। खाने की चीजें, फल-सब्जियों व कच्चे मांस आदि को अलग-अलग रखें।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।