शनिवार, 30 अगस्त, 2014 | 13:39 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पुलिसिया पूछताछ में 50 बड़े नाम बताये रंजीत कोहली या रकीबुल हुसैन ने
 
खुशहाल शादी के 6 राज
आरती मिश्रा
First Published:06-12-12 12:24 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

पति-पत्नी के रिश्तों में तलाक और आपसी टकराव की बातें आम हो रही हैं। आरती मिश्रा बता रही हैं कुछ ऐसे राज, जिनकी मदद से आप अपनी शादी की गोल्डन जुबली भी पूरे धूम-धाम से मनाएंगी।

तेजी से बदलती जीवनशैली, आपसी समझ में कमी और इसी तरह के कई अन्य कारणों से परंपराओं के निर्वाहक माने जाने वाले हमारे देश में भी जोडियों में आपसी टकराव और तलाक की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। कई जोड़े अलग रहने को अपनी सभी समस्याओं का हल मान बैठते हैं। ऊपर से दिक्कत ये कि कोई भी पक्ष खुद को गलत मानने को तैयार नहीं होता। पर ये परेशानियों का हल नहीं, बल्कि शुरुआत है। आप किसी भी रिश्ते के भीतर झांक कर देख लीजिए, कई सारे समझौते और आपसी समझ ही उस रिश्ते को जीवित रखने का कारण होती है..बहरहाल हम बता रहे हैं ऐसे 6 टिप्स, जिन्हें अपना कर आप दोनों आपसी समझ को बढ़ा कर टकराव की आशंकाओं को दूर कर सकते हैं।

बातचीत खूब हो
आप चाहे कितने भी व्यस्त क्यों न हों, आपस में बात करने का समय अवश्य निकालें। अगर बातचीत का दायरा सीमित होता जा रहा है तो यह आपके रिश्ते के अंत की शुरुआत है। इसलिए घर-ऑफिस के काम, बच्चे, उनकी पढ़ाई, सास-ससुर आदि में चाहे जितने भी बिजी हों, एक-दूसरे से बातों को शेयर करें। अगर आपकी बात से उन्हें बोरियत होती है तो आप अपने और उनके पसंदीदा विषयों पर ही बात करें, पर करें जरूर।

एक-दूसरे का करें सम्मान
रिश्ते में एक-दूसरे को आदर देना आवश्यक है। आप दोनों ने जीवनभर साथ निभाने का वादा किया है, पर इसका यह अर्थ नहीं कि रिश्ते के बीच सम्मान समाप्त हो जाए। इसे जाहिर करने का सबसे सशक्त तरीका आपकी आपसी बातचीत है। इसमें आदरपूर्ण शब्दों का प्रयोग करें, एक-दूसरे के फैसलों को समङों और उसके बाद ही उस पर बात करें। इसी तरह भावनाओं का भी सम्मान करें।

कुछ समझौते तो करने ही होंगे
कई लोग मानते हैं कि समझौता करना आत्मसम्मान को हानि पहुंचाना है, यह कमजोरी की निशानी है, पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। अगर आप किसी को अपने जीवन का हिस्सा बनाते हैं तो उसके लिए कुछ समझौते तो करने ही होंगे..इसका यह मतलब नहीं कि वह समझौता आप ही करती हैं और वह नहीं। समझौते दोनों पक्ष ही करते हैं। हर बार समझौता करने की जरूरत भी नहीं है, पर कुछ अहम फैसलों या स्थितियों में ऐसा करना पड़ सकता है। अंत में ऐसे निर्णय पर पहुंचें, जहां दोनों को खुशी मिले.. इससे शुरुआत में जो बात मुश्किल लग रही थी, बाद में वह सुकून देने वाली साबित होगी। 

वित्तीय मामलों में रहें निष्पक्ष
वित्तीय तौर पर स्वतंत्र होने में कोई बुराई नहीं है, इसीलिए आपका अलग सेविंग अकाउंट होना बिल्कुल जायज बात है। पर ऐसे में यह भी जरूरी है कि आप अपने जीवनसाथी को इस बारे में अवगत करा दें। इसी तरह अगर आप कोई नई पॉलिसी लेते हैं या फिर लोन आदि लेने की योजना बना रहे हैं तो सलाह-मशविरा करें। यह मान कर चलिए कि अब आपके पास जो भी है, वह आप दोनों और आपके परिवार का है, इसलिए सभी वित्तीय फैसले बातचीत के बाद करें।

सास-ससुर के साथ रिश्ते हों बेहतर
हर परिवार की अलग स्थितियां होती हैं। हो सकता है कि आपके सास-ससुर आपको पसंद करते हों और ये भी संभव है कि ना करते हों। पर आप अपनी ओर से कुछ एहतियाती कदम उठाएं, जैसे उनसे जब भी मिलें, प्यार से बात करें, त्योहार आदि के मौकों पर तोहफे दें आदि। अगर वो आपके साथ रहते हैं और उनसे आपकी नोंकझोंक होती रहती है तो काम की बात ही करें, बिना कारण किसी विवाद को जन्म न दें। जीवनसाथी से आप सास-ससुर के साथ रिश्तों पर खुल कर बात करें और अपना पक्ष रखें।

बना रहे रोमांस
शादी को चाहे कितने भी साल हो गए हों, मोहब्बत बनी रहनी चाहिए। इसके लिए आप जीवनसाथी पर ध्यान दें, उनकी तारीफ करें और रोमांस के लिए वक्त निकालें। अगर दोनों ही वर्किंग हैं तो वीकएंड पर बाहर छुट्टियां बिता आएं। समय-समय पर उन्हें यह एहसास दिलाएं कि वो आपके लिए कितने स्पेशल हैं। ध्यान रखें, जिस तरह रिश्ते में रोमांस होना चाहिए, उसी तरह कुछ ब्रीदिंग स्पेस होना भी आवश्यक है।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°