शुक्रवार, 31 जुलाई, 2015 | 01:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ना 'पाक' हरकतों से नहीं बाज आ रहा है पाकिस्तान, फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 1 जवान शहीद देश में केवल 17 व्यक्तियों पर 2.14 लाख करोड़ का कर बकाया  2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 33 की मौत, 20 से अधिक लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी पढ़ें 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से अब तक का घटनाक्रम निर्दोषों को आतंकी कहा जा रहा है, मैं धमाकों का जिम्मेदार नहीं: याकूब
हैसियत नहीं, प्रतिभा से मिलती है कामयाबी
तेल अवीव, एजेंसी First Published:30-03-2012 04:03:16 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

किसी व्यक्ति की हैसियत की बजाए उसकी प्रतिभा उसे तेजी से सफलता के पायदान चढ़ने में मददगार होती है। यह बात नए अध्ययन में सामने आई है।

तेल अवीव विश्वविद्यालय (टीएयू) के प्रबंधन प्रोफेसर व अध्ययनकर्ता योव गैनजैक का कहना है कि केवल आपकी प्रतिभा ही आपके भविष्य की सम्भावनाएं तय करती है।

जर्नल 'इंटेलीजेंस' के मुताबिक गैनजैक ने कहा कि यदि सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि व प्रतिभा के संदर्भ में यह बात की जाए तो प्रतिभा आपके भविष्य की करियर सफलताओं की अधिक सटीक सम्भावनाएं प्रदर्शित करती है।

वैसे समृद्ध परिवारों के लोगों के करियर की शुरुआत बेहतर होती है लेकिन गैनजैक के अध्ययन के मुताबिक आगे बढ़ने व ऊंची तनख्वाह हासिल करने में आपकी प्रतिभा का ज्यादा योगदान होता है।

गैनजैक ने कहा कि इस अध्ययन के परिणाम उन लोगों के लिए सकारात्मक संदेश हैं जो अपनी पहली नौकरी के लिए भाई-भतीजावाद में भरोसा नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि आपका परिवार आपकी करियर की शुरुआत में मदद कर सकता है लेकिन यह आपकी प्रगति में मददगार नहीं हो सकता। जब आप एक बार काम करना शुरू कर देते हैं तो आप अपनी क्षमताओं के साथ कहीं भी पहुंच सकते हैं।

गैनजैक ने नेशनल लांगीट्यूडिनल सर्वे ऑफ यूथ के आंकड़ों के आधार पर यह सर्वेक्षण किया। इसमें 1979 से 2004 तक 12,868 अमेरिकियों पर अध्ययन किया गया था। अध्ययन के प्रतिभागियों के उनकी पदोन्नति व तनख्वाह में वृद्धि के सम्बंध में वार्षिक व द्विवार्षिक साक्षात्कार लिए गए थे।

प्रत्येक प्रतिभागी के आर्म्ड फोर्सेज क्वालीफाइंग टेस्ट के जरिए उनकी प्रतिभा की गणना की गई जबकि उनके अभिभावकों की शिक्षा, पारिवारिक कमाई व व्यवसायिक दर्जे के आधार पर उनकी हैसियत आंकी गई। गैनजैक का कहना है कि तनख्वाह में बढ़ोत्तरी की गति पर केवल व्यक्ति की प्रतिभा का प्रभाव देखा गया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड