शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 03:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
हैसियत नहीं, प्रतिभा से मिलती है कामयाबी
तेल अवीव, एजेंसी First Published:30-03-12 04:03 PM
Image Loading

किसी व्यक्ति की हैसियत की बजाए उसकी प्रतिभा उसे तेजी से सफलता के पायदान चढ़ने में मददगार होती है। यह बात नए अध्ययन में सामने आई है।

तेल अवीव विश्वविद्यालय (टीएयू) के प्रबंधन प्रोफेसर व अध्ययनकर्ता योव गैनजैक का कहना है कि केवल आपकी प्रतिभा ही आपके भविष्य की सम्भावनाएं तय करती है।

जर्नल 'इंटेलीजेंस' के मुताबिक गैनजैक ने कहा कि यदि सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि व प्रतिभा के संदर्भ में यह बात की जाए तो प्रतिभा आपके भविष्य की करियर सफलताओं की अधिक सटीक सम्भावनाएं प्रदर्शित करती है।

वैसे समृद्ध परिवारों के लोगों के करियर की शुरुआत बेहतर होती है लेकिन गैनजैक के अध्ययन के मुताबिक आगे बढ़ने व ऊंची तनख्वाह हासिल करने में आपकी प्रतिभा का ज्यादा योगदान होता है।

गैनजैक ने कहा कि इस अध्ययन के परिणाम उन लोगों के लिए सकारात्मक संदेश हैं जो अपनी पहली नौकरी के लिए भाई-भतीजावाद में भरोसा नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि आपका परिवार आपकी करियर की शुरुआत में मदद कर सकता है लेकिन यह आपकी प्रगति में मददगार नहीं हो सकता। जब आप एक बार काम करना शुरू कर देते हैं तो आप अपनी क्षमताओं के साथ कहीं भी पहुंच सकते हैं।

गैनजैक ने नेशनल लांगीट्यूडिनल सर्वे ऑफ यूथ के आंकड़ों के आधार पर यह सर्वेक्षण किया। इसमें 1979 से 2004 तक 12,868 अमेरिकियों पर अध्ययन किया गया था। अध्ययन के प्रतिभागियों के उनकी पदोन्नति व तनख्वाह में वृद्धि के सम्बंध में वार्षिक व द्विवार्षिक साक्षात्कार लिए गए थे।

प्रत्येक प्रतिभागी के आर्म्ड फोर्सेज क्वालीफाइंग टेस्ट के जरिए उनकी प्रतिभा की गणना की गई जबकि उनके अभिभावकों की शिक्षा, पारिवारिक कमाई व व्यवसायिक दर्जे के आधार पर उनकी हैसियत आंकी गई। गैनजैक का कहना है कि तनख्वाह में बढ़ोत्तरी की गति पर केवल व्यक्ति की प्रतिभा का प्रभाव देखा गया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड