गुरुवार, 23 अक्टूबर, 2014 | 07:10 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने टिवटर पर जानकारी दी - मैं सियाचिन ग्लेशियर जा रहा। मैं आज का खास दिन वहां सैनिकों के साथ गुजारूंगा। इसके बाद कश्मीर जाऊंगा।
co2 का एक इंजेक्शन कर देगा मोटी कमर को पतली
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-10 03:44 PMLast Updated:02-01-10 03:45 PM
Image Loading

कहीं आपकी मोटी कमर किसी गंभीर रोग की ओर तो इशारा नहीं कर रही। घबराइए मत क्योंकि अब वैज्ञानिकों ने कार्बनडाईऑक्साइड का मात्र एक इंजेक्शन लगा इस चर्बी को छांटने का तरीका ढूंढ निकाला है।

यह सिद्ध हो चुका है कि मोटी कमर टाइप टू डायबटीज, उच्च रक्तचाप तथा ह्दय रोग जैसे रोगों की खतरे की घंटी हो सकती है। अगर आप इस श्रेणी में आते भी हैं तो प्लीज। अब चिंतित न हों। एक अच्छी खबर यह है कि वैज्ञानिक कार्बनडाईऑक्साइड का एक इंजेक्शन लगाकर कमर जांघों और पुट्ठो पर जमी ऊपरी चर्बी छांटने में काफी हद तक सफल हो गए हैं।

कार्बनडाईऑक्साइड एक प्राकृतिक गैस है जो हमारे शरीर में श्वसन प्रक्रिया के दौरान बनती हैं। यह गैस जल्दी ही हमारे रक्त में मिल जाती है फिर निश्वास तथा गुर्दों की मदद से शरीर से बाहर भी निकल जाती है। काबाक्सी थैरेपी की मदद से निश्चित मात्रा में कार्बनडाईऑक्साइड गैस एक महीने सी सुई से त्वचा की ऊपरी सतह में पहुंचा दी जाती है। इसमें बहुत कम समय लगता है। यह गैस त्वचा में पहुंच कर आसपास के ऊत्तकों को सक्रिय करती है जिससे रक्तवाहिकाएं कुछ चौड़ी हो जाती हैं। रक्तवाहिकाओं के चौड़ी हो जाने से रक्त का प्रवास आसान हो जाता है और जिससे उस भाग में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों का प्रवास भी बढ़ जाता है।

इसके साथ ही कार्बनडाईऑक्साइड गैस मोटापा बढ़ाने वाली कोशिकाओं को भी निष्क्रिय कर देती है, जबकि अतिरिक्त ऑक्सीजन कोशिकाओं के बीच मौजूद तह को साफ कर देती है। इटली में 48 महिलाओं का प्रयोग के तौर पर कार्बनडाईऑक्साअड गैस के इंजक्शन लगाए गए, जिनके उत्साहजनक परिणाम निकलने के बाद अब पहली बार अमेरिका की नॉर्थ वेस्टर्न यूनीवर्सिटी में मोटे लोगों पर क्लीनिकल ट्रायल शुरु होने जा रहे हैं। इस प्रयोग में 35 इंच या इससे अधिक मोटी कमर वाली महिलाएं तथा 40 इंच या इससे अधिक मोटी कमर वाले पुरुषों को शामिल किया जा रहा है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफेसर निक फाइनर का कहना है कि इस उपचार से व्यक्ति के कमर पुट्ठों और जांघों से अतिरिक्त चर्बी को हटाया जा सकेगा, लेकिन इसके बाद उन्हें अपने खानपान और जीवन शैली का ख्याल रखना होगा।

उन्होंने कहा कि ये उपचार त्वचा के नीचे जमी चर्बी को तो कम कर देगा पर पेट आदि पर जमी चर्बी को कम करने के लिए व्यक्ति को खानपान और दिनचर्या को बदलना ही होगा। इस उपचार से किसी को पतला होने का एहसास दिलाकर उस पर मनौवैज्ञानिक असर डालकर उसका मनोबल तो बढ़ाया जा सकता है पर टाइप टू डायबटीज, उच्च रक्तचाप तथा ह्दय रोग जैसे रोगों से बचने के लिए तो उसे खानपान में बदलाव लाना ही होगा।
 
 
 
टिप्पणियाँ