रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 17:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
प्रोटीन के नुकसान से बुढ़ापे में मसूड़ों में परेशानी
लंदन, एजेंसी First Published:18-04-12 04:34 PM
Image Loading

यदि आपके शरीर में डेल-1 प्रोटीन का स्तर कम हो रहा है तो इसकी वजह से आपको बुढ़ापे में मसूड़ों से सम्बंधित बीमारियां हो सकती हैं। एक नए शोध में यह खुलासा हुआ है।

पेरियोडोन्टाइटिस मसूड़ों की एक बीमारी है, जिसमें मसूड़ों से खून निकलता है और दांतों के आसपास की हड्डियां कमजोर होती हैं। इससे दांतों को नुकसान पहुंचता है। इस बीमारी में मुंह के कीटाणुओं के प्रति प्रतिरोधक तंत्र अतिसक्रिय हो जाता है। उम्र बढ़ने के साथ लोगों के इस बीमारी से ग्रस्त होने का खतरा बढ़ता जाता है।

'नेचर इम्युनोलॉजी' जर्नल के मुताबिक लंदन के क्वीन मैरी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का कहना है कि डेल-1 के सम्बंध में समझ बढ़ाकर और प्रतिरोधक तंत्र पर इसके प्रभाव के अध्ययन से मसूड़ों की बीमारियों की रोकथाम या इलाज में मदद मिल सकती है।

क्वीन मैरी में माइक्रोबायोलॉजी के प्रोफेसर व अध्ययनकर्ता माइक कर्टिस कहते हैं, ''पेरियोडोन्टाइटिस एक बहुत सामान्य परेशानी है और हम जानते हैं कि उम्र बढ़ने के साथ यह बीमारी और भी आम हो जाती है।''

क्वीन मैरी ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, ''यह शोध इस बात पर प्रकाश डालता है कि उम्र बढ़ने के साथ इस बीमारी का खतरा क्यों बढ़ जाता है। इस बीमारी के इलाज में यह एक पहला कदम है।''

इस शोध में कम उम्र के व बूढ़े चूहों के मसूड़ों पर शोध किया गया और देखा गया कि उम्र बढ़ने के साथ बीमारी का खतरा बढ़ गया और इसकी वजह डेल-1 का स्तर कम होना था। इस प्रोटीन को प्रतिरोधक तंत्र की क्रियाएं रोकने के लिए जाना जाता है। यह प्रोटीन रोग प्रतिरोधक क्षमता में अहम भूमिका निभाने वाली श्वेत रक्त कोशिकाओं को मुंह के ऊतकों से चिपकने व उन पर हमला करने से रोकता है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड