गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 13:46 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
संभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.पश्चिम में हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर मुरादाबाद में वकीलों का आंदोलन शुरू। कचहरी के आसपास की दुकानों को बंद कराया। ठेले पलटे। एसएसपी दफ्तर के सामने वकील धरने पर बैठे।बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
तारों को तेजी से निगल रहा है ब्लैक होल
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:03-04-12 04:29 PM
Image Loading

ब्लैक होल तेजी से बाइनरी (डबल) स्टार सिस्टम के तारों को निगल रहा है, जिससे इसका आकार आने वाले वर्षों में बड़ा हो सकता है।

यह दावा एक नए खगोलशास्त्रीय अध्ययन में किया गया है। हार्वर्ड-स्मिथसोनियमन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स (सीएफए) के स्कॉट केनयन ने कहा कि ब्लैक होल तेजी से तारों को निगल रहा और अगले एक अरब वर्षो में इसका आकार दोगुना बड़ा हो सकता है। मानवीय मानकों के अनुसार यह हालांकि लम्बी अवधि जान पड़ती है, लेकिन आकाशगंगा के इतिहास में यह तेजी से हो रहा है।

यह अध्ययन रिपोर्ट 'द एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लेटर्स' में प्रकाशित हुई है। यूनीवर्सिटी ऑफ उटाह के मुख्य अध्ययनकर्ता बेंजामिन ब्रोमले ने कहा कि मुझे लगता है कि ब्लैक होल के आकार में वृद्धि का यह प्रमुख तरीका बन गया है।

अध्ययनकर्ताओं का काम वर्ष 2005 में सीएफए के ही अंतरिक्ष विज्ञानियों की एक टीम के अध्ययन के आगे की कड़ी है, जिसका नेतृत्व वारेन ब्राउन ने किया था। ब्राउन के नेतृत्व में सीएफए के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने हापरवेलोसिटी तारों का अध्ययन किया था, जो आकाशगंगा में तेजी से भ्रमण करता है और ब्लैक होल में समाने से बच निकलता है।

हाइपरवेलोसिटी तारे बंदूक की गोलियों की तुलना में हजारों गुना अधिक तेजी से चल सकते हैं। इन तारों की उत्पत्ति भी बाइनरी (डबल) स्टार सिस्टम से ही होती है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड