शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 06:59 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात FTII छात्रों को राहुल गांधी का समर्थन, राहुल ने कहा, अपनी इच्छा छात्रों पर ना थोपे सरकार राज्यसभा में विपक्षी दलों ने किया हंगामा, कार्यवाही हुई बाधित लोकसभा में विपक्ष ने लगाए सरकार के खिलाफ नारे, भाजपा सांसद भी नहीं रहे पीछे हाईकोर्ट के आदेश पर मानसून सत्र में बैठेंगे ये चार विधायक अमेरिकी लड़की के साथ छेड़खानी करने वाला टैक्सी चालक गिरफ्तार
अधिक स्फूर्तिदायक होती हैं थोड़े दिनों की छुट्टियां
लंदन, एजेंसी First Published:16-08-2010 03:03:32 PMLast Updated:16-08-2010 03:08:23 PM
Image Loading

यदि आप अपने जीवन में खुशहाली और यादों को संजोना चाहते हैं तो लंबे अवकाश पर न जाकर थोड़े-थोड़े अंतराल पर कम दिनों का अवकाश लेते रहें। एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि कम दिनों के अवकाश की ज्यादातर यादें खुशनुमा होती हैं।

लोग अपनी एक विशेष जीवनशैली के आदी हो जाते हैं और जब वे लंबी छुट्टियों पर जाते हैं तो उन्हें कुछ दिन बाद ही ऊब होने लगती है। समाचार पत्र 'द टेलीग्राफ' की एक रिपोर्ट में अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना के ड्यूक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डैन एरीली के हवाले से कहा गया है कि लंबे अवकाश के दौरान पहला दिन सातवें दिन की अपेक्षा ज्यादा अच्छा होता है क्योंकि सातवें दिन तक उत्साह कम हो जाता है।

डैन का कहना है कि इसलिए सामान्य तौर पर साल में चार बार अवकाश पर जाना ज्यादा अच्छा होता है, इसकी तुलना में एक सप्ताह के अवकाश में उतनी खुशियां नहीं मिलतीं जितनी कि आप उम्मीद करते हैं। वैसे अन्य विशेषज्ञ इस बात से सहमत नहीं हैं। 'डीयर अंडरकवर इकोनॉमिस्ट' के लेखक टिम हारफोर्ड कहते हैं कि ज्यादा यात्राएं करने से केवल यात्रा का तनाव ही बढ़ता है।

हारफोर्ड कहते हैं कि यदि आप तीन बार अवकाश पर जाते हैं तो आपको तीन गुना अधिक परेशानी होती है। मुझे नहीं लगता कि यह अच्छा है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड