शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 00:23 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
अधिक स्फूर्तिदायक होती हैं थोड़े दिनों की छुट्टियां
लंदन, एजेंसी First Published:16-08-10 03:03 PMLast Updated:16-08-10 03:08 PM
Image Loading

यदि आप अपने जीवन में खुशहाली और यादों को संजोना चाहते हैं तो लंबे अवकाश पर न जाकर थोड़े-थोड़े अंतराल पर कम दिनों का अवकाश लेते रहें। एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि कम दिनों के अवकाश की ज्यादातर यादें खुशनुमा होती हैं।

लोग अपनी एक विशेष जीवनशैली के आदी हो जाते हैं और जब वे लंबी छुट्टियों पर जाते हैं तो उन्हें कुछ दिन बाद ही ऊब होने लगती है। समाचार पत्र 'द टेलीग्राफ' की एक रिपोर्ट में अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना के ड्यूक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डैन एरीली के हवाले से कहा गया है कि लंबे अवकाश के दौरान पहला दिन सातवें दिन की अपेक्षा ज्यादा अच्छा होता है क्योंकि सातवें दिन तक उत्साह कम हो जाता है।

डैन का कहना है कि इसलिए सामान्य तौर पर साल में चार बार अवकाश पर जाना ज्यादा अच्छा होता है, इसकी तुलना में एक सप्ताह के अवकाश में उतनी खुशियां नहीं मिलतीं जितनी कि आप उम्मीद करते हैं। वैसे अन्य विशेषज्ञ इस बात से सहमत नहीं हैं। 'डीयर अंडरकवर इकोनॉमिस्ट' के लेखक टिम हारफोर्ड कहते हैं कि ज्यादा यात्राएं करने से केवल यात्रा का तनाव ही बढ़ता है।

हारफोर्ड कहते हैं कि यदि आप तीन बार अवकाश पर जाते हैं तो आपको तीन गुना अधिक परेशानी होती है। मुझे नहीं लगता कि यह अच्छा है।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ