शुक्रवार, 29 मई, 2015 | 01:39 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मोदी ने मनमोहन से लिया था एक घंटे इकॉनोमी का ज्ञानः राहुल लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदी CBSE 10th रिजल्ट: 94,447 छात्रों को मिला 10 सीजीपीए सोनिया की मौजूदगी में हुई बैठक, पास हुआ मोदी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जेट एयरवेज की टिकटों पर 25 प्रतिशत छूट की पेशकश रायबरेली पहुंची सोनिया गांधी व्यापम घोटाला: अब तक जांच से जुड़े 40 लोगों की मौत त्रिपुरा सरकार ने राज्य में 18 सालों से लगा अफस्पा हटाया गुर्जर आंदोलन: बैंसला बोले, चाहे कुछ हो जाए बिना आरक्षण लिए नहीं लौटेंगे कुछ इस तरह हुई फीफा के 14 अधिकारियों की गिरफ्तारी
दिमाग तेज करना हो तो रोज खाएं बैक्टीरिया
लंदन, एजेंसी First Published:28-05-10 07:55 PMLast Updated:28-05-10 07:55 PM
Image Loading

जनाब, दिमाग को तंदुरूस्त रखना है तो जमकर खाइए बैक्टीरिया। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। न्यू साइंटिस्ट में प्रकाशित इस अध्ययन को अंजाम देने वाले वैज्ञानिकों ने इसके लिए चूहों पर प्रयोग किया।

उन्होंने चूहों को मूंगफली खाने को दी पर उस मूंगफली के साथ मिटटी में पाए जाने वाले बैक्टीरिया को भी खुराक में दिया।
   
मूंगफली के साथ बैक्टीरिया का निवाला लेने वाले वे चूहे चक्रव्यूह में दौड़ना आसानी से और दोगुने रफ्तार से सीख गए। उन्हें इस दौड़ में मजा भी आया।

न्यूयॉर्क के सेज कॉलेज के डोरोथी मैथ्यूज की अगुवाई में दल ने पाया कि बैक्टीरिया खाने वाले चूहे सामान्य मूंगफली खाने वाले चूहों की तुलना में चक्रव्यूह में दोगुने रफ्तार से भागे।

मैथ्यूज ने बताया कि इस साबित करता है कि उन्होंने चक्रव्यूह को तोड़ना तेजी से सीखा। चक्रव्यूह में चूहों की यह दौड़ छह हफ्तों तक 18 बार चली और हर बार बैक्टीरिया खाने वाले चूहे आगे रहे।

वैज्ञानिकों के अनुसार ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि बैक्टीरिया ने उनके प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित किया था। इस बारे में ऐसे ही नतीजों वाला एक अध्ययन 2007 में भी हो चुका है।

मैथ्यूज ने कहा कि बैक्टीरिया सीखने की प्रक्रिया को तेज करते हैं क्योंकि उनका असर दिमाग के एक हिस्से हिप्पोकैम्पस पर पड़ता है जो याददाश्त के लिए जवाबदेह होते हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड