रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 08:10 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पूर्व रॉ प्रमुख दौलत के दावे सिर्फ झूठ का पुलिंदा, सुर्खियों में रहने के लिए लिखी किताब: हुर्रियत यूपीएससी में बेटियों ने बाजी मारी, दिल्ली की इरा ने टॉप किया, लड़कों में बिहार का सुहर्ष अव्वल इलाहाबाद जंक्शन पर पटरी से उतरी मालगाड़ी, परिचालन ठप मुजफ्फरनगर: सड़क हादसे में दो बच्चों की मौत के बाद जमकर हुआ बवाल झारखंड: पटरी से उतरी मालगाड़ी, दो मरे, चार ट्रेनें रद्द अनूप चावला की हालत बिगड़ी, एयर एंबुलेंस से भेजा मेदांता अनंत विक्रम सिंह गिरफ्तार, अमेठी में भारी पुलिसबल तैनात आतंकी भटकल ने जेल से किया पत्नी को फोन, बताई गुप्त योजना, मचा हडकंप माफिया डॉन दाउद इब्राहिम ने लंदन में रामजेठमलानी को किया था फोन, सरेंडर करने की बात कही थी हेमा मालिनी को मिली अस्पताल से छुटटी, बेटी ईशा के साथ पहुंचीं मुंबई
45 मिनट की पैदल चाल से कम होगा मोटापा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-09-12 01:52 PM
Image Loading

मोटापा दुनियाभर में एक बड़ी समस्या बनकर उभर रहा है। वैसे चिकित्सकों का कहना है कि मोटापा अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह बीमारियों की जड़ है, जिससे मधुमेह, ह्दय रोग, जोड़ों का दर्द और बड़ी उम्र में अल्जाइमर तक हो सकता है।

लेकिन चिकित्सकों की मानें तो मोटापा कोई ऐसी समस्या नहीं है जिससे निजात नहीं पाया जा सके। सप्ताह में पांच दिन केवल 45 मिनट पैदल चलना ही मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए काफी है।

डॉ. राममनोहर लोहिया अस्पताल की आहार विशेषज्ञ डॉ. शिखा खन्ना ने बताया कि मोटापा एक ऐसी समस्या है, जो 21वीं सदी में आधुनिक जीवनशैली की देन है। इसलिए जीवनशैली में परिवर्तन किए बिना मोटापे से छुटकारा पाना संभव नहीं है।

डॉ. शिखा मोटापे के शिकार लोगों को सुझाव देती हैं कि नियमित रूप से केवल 45 मिनट की तेज पैदल चाल चलकर न केवल मोटापे को कम किया जा सकता है, बल्कि इससे भविष्य में होने वाली अन्य बीमारियों से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

हालांकि, वह यह भी कहती हैं कि पैदल चलना या जॉगिंग किसी के लिए भी फायदेमंद है लेकिन अगर कोई व्यक्ति उच्च रक्तचाप या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं तो इसे शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक की सलाह लेना जरूरी है।

पूर्वी दिल्ली में एनर्जी जिम के संचालक सुभाष वर्मा बताते हैं कि पैदल चलना एक ऐसा व्यायाम है जिसमें किसी प्रकार का कोई खर्च नहीं होता। केवल एक जोड़ी अच्छी गुणवत्ता के जूते ही काफी हैं।

वर्मा बताते हैं कि पैदल चाल शुरू करने से पूर्व करीब पांच मिनट वार्म अप करें और 40 मिनट की तेज पैदल चाल के बाद शरीर को कूल डाउन भी करना बेहद जरूरी है। इससे मांसपेशियों में तनाव और अंदरूनी चोट की आशंका समाप्त हो जाती है।

डॉ. शिखा ने बताया कि जितनी कैलोरी आप दिनभर में लेते हैं, उसमें से शरीर की जरूरत की कैलोरी को हटाकर अतिरिक्त कैलोरी को व्यायाम के जरिए खत्म करना ही मोटापे को बढ़ने या पनपने से रोकना है।

वह कहती हैं कि 20 मिनट की तेज चाल के बाद शरीर का मैटाबोलिजम सक्रिय होता है। इसलिए जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उन्हें दस पंद्रह मिनट चहलकदमी करने से कोई फायदा नहीं होगा।

आहार विशेषज्ञों का मानना है कि पैदल चाल में कैलोरी को बर्न करना उम्र, लंबाई, वजन और लिंग के उपर निर्भर करता है। एक औसत 65 किलोग्राम वजनी व्यक्ति की जागिंग में 56 कैलोरी प्रति किलोमीटर और पैदल चाल में 39 कैलोरी प्रति किलोमीटर खर्च होती है।
इस प्रकार औसतन 45 मिनट में चार किलोमीटर जॉगिंग करने पर 224 कैलोरी तथा पैदल चाल में करीब 156 कैलोरी खर्च होती है।

डॉ. शिखा कहती हैं कि 45 मिनट की तेज चाल और जॉगिंग से थोड़ा बहुत वजन कम किया जा सकता है लेकिन जो लोग अधिक मोटे हैं उन्हें आहार विशेषज्ञ और डाक्टर से परामर्श करके ही जॉगिंग या व्यायाम आदि की योजना बनानी चाहिए। वह कहती हैं, उम्र, वजन, लिंग, कोई बीमारी या कुछ दवाओं का प्रभाव ऐसे कारक हैं जो वजन निर्धारित करते हैं। इसलिए उचित परामर्श बेहद जरूरी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingमैकलम ने खेली 158 रन की रिकॉर्ड पारी
न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैकलम ने इंग्लिश ट्वेंटी 20 ब्लास्ट प्रतियोगिता में अपनी काउंटी टीम वॉरविकशायर के लिए मात्र 64 गेंदों में नाबाद 158 रन का ताबड़तोड़ स्कोर बनाने के साथ एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड