शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 10:13 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता फड़णवीस को मोदी ने चढ़ाईं सत्ता की सीढ़ियां
45 मिनट की पैदल चाल से कम होगा मोटापा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-09-12 01:52 PM
Image Loading

मोटापा दुनियाभर में एक बड़ी समस्या बनकर उभर रहा है। वैसे चिकित्सकों का कहना है कि मोटापा अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह बीमारियों की जड़ है, जिससे मधुमेह, ह्दय रोग, जोड़ों का दर्द और बड़ी उम्र में अल्जाइमर तक हो सकता है।

लेकिन चिकित्सकों की मानें तो मोटापा कोई ऐसी समस्या नहीं है जिससे निजात नहीं पाया जा सके। सप्ताह में पांच दिन केवल 45 मिनट पैदल चलना ही मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए काफी है।

डॉ. राममनोहर लोहिया अस्पताल की आहार विशेषज्ञ डॉ. शिखा खन्ना ने बताया कि मोटापा एक ऐसी समस्या है, जो 21वीं सदी में आधुनिक जीवनशैली की देन है। इसलिए जीवनशैली में परिवर्तन किए बिना मोटापे से छुटकारा पाना संभव नहीं है।

डॉ. शिखा मोटापे के शिकार लोगों को सुझाव देती हैं कि नियमित रूप से केवल 45 मिनट की तेज पैदल चाल चलकर न केवल मोटापे को कम किया जा सकता है, बल्कि इससे भविष्य में होने वाली अन्य बीमारियों से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

हालांकि, वह यह भी कहती हैं कि पैदल चलना या जॉगिंग किसी के लिए भी फायदेमंद है लेकिन अगर कोई व्यक्ति उच्च रक्तचाप या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं तो इसे शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक की सलाह लेना जरूरी है।

पूर्वी दिल्ली में एनर्जी जिम के संचालक सुभाष वर्मा बताते हैं कि पैदल चलना एक ऐसा व्यायाम है जिसमें किसी प्रकार का कोई खर्च नहीं होता। केवल एक जोड़ी अच्छी गुणवत्ता के जूते ही काफी हैं।

वर्मा बताते हैं कि पैदल चाल शुरू करने से पूर्व करीब पांच मिनट वार्म अप करें और 40 मिनट की तेज पैदल चाल के बाद शरीर को कूल डाउन भी करना बेहद जरूरी है। इससे मांसपेशियों में तनाव और अंदरूनी चोट की आशंका समाप्त हो जाती है।

डॉ. शिखा ने बताया कि जितनी कैलोरी आप दिनभर में लेते हैं, उसमें से शरीर की जरूरत की कैलोरी को हटाकर अतिरिक्त कैलोरी को व्यायाम के जरिए खत्म करना ही मोटापे को बढ़ने या पनपने से रोकना है।

वह कहती हैं कि 20 मिनट की तेज चाल के बाद शरीर का मैटाबोलिजम सक्रिय होता है। इसलिए जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उन्हें दस पंद्रह मिनट चहलकदमी करने से कोई फायदा नहीं होगा।

आहार विशेषज्ञों का मानना है कि पैदल चाल में कैलोरी को बर्न करना उम्र, लंबाई, वजन और लिंग के उपर निर्भर करता है। एक औसत 65 किलोग्राम वजनी व्यक्ति की जागिंग में 56 कैलोरी प्रति किलोमीटर और पैदल चाल में 39 कैलोरी प्रति किलोमीटर खर्च होती है।
इस प्रकार औसतन 45 मिनट में चार किलोमीटर जॉगिंग करने पर 224 कैलोरी तथा पैदल चाल में करीब 156 कैलोरी खर्च होती है।

डॉ. शिखा कहती हैं कि 45 मिनट की तेज चाल और जॉगिंग से थोड़ा बहुत वजन कम किया जा सकता है लेकिन जो लोग अधिक मोटे हैं उन्हें आहार विशेषज्ञ और डाक्टर से परामर्श करके ही जॉगिंग या व्यायाम आदि की योजना बनानी चाहिए। वह कहती हैं, उम्र, वजन, लिंग, कोई बीमारी या कुछ दवाओं का प्रभाव ऐसे कारक हैं जो वजन निर्धारित करते हैं। इसलिए उचित परामर्श बेहद जरूरी है।

 
 
 
टिप्पणियाँ