शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 03:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
फतुहा में बिजली की तार की चपेट में ट्रॉली आई, दो की मौतअमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
स्टेम सेल से संभव है हृदय का इलाज
टोरंटो, एजेंसी First Published:28-11-12 05:40 PM
Image Loading

स्टेम सेल का प्रयोग कर हृदय के क्षतिग्रस्त भागों को स्वस्थ करने में मिली सफलता ने हृदय रोग के इलाज में नई संभावनाओं को जन्म दिया है। यह तथ्य कनाडा के शोध में सामने आया।

शोध के अनुसार वैज्ञानिकों ने मरीज के स्टेम सेल से ही हृदय के क्षतिग्रस्त भागों को भरने में सफलता प्राप्त की है। इस विधा में मरीज के उम्र एवं सेल के शरीर को नकारने का कोई खतरा नहीं होता है।

वैज्ञानिक पत्रिका अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के अनुसार टोरंटो विश्वविद्यालय की प्रोफेसर मिलिसा रेडिसिक ने कहा कि दान में दी गई अस्थि मज्जा से लिए गए स्टेम सेल के प्रत्यारोपण के समय उसे शरीर को नकारने का खतरा रहता है।

उन्होंने बताया कि इससे बचने का यह तरीका है कि सेल को मरीज के ही शरीर से निकाला जाए। रेडिसिक ने कहा कि यह बहुत शानदार शोध था।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड