Image Loading positive story how to get success - Hindustan
मंगलवार, 28 मार्च, 2017 | 21:22 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

सफलता पाने का सबसे बड़ा मंत्र, लक्ष्य पर रखें पैनी नजर

नई दिल्ली, हिन्दुस्तान टीम First Published:15-03-2017 06:50:31 AMLast Updated:15-03-2017 06:51:47 AM
सफलता पाने का सबसे बड़ा मंत्र, लक्ष्य पर रखें पैनी नजर

पांच मेढको ने एक बार निर्णय किया की चलो आज गिरनार पर्वत चढ़ते है, जहां पर श्री गुरुदत जी बिराजते हे | अब बात यह की मेंढक इतना ऊंचे पर्वत की शिखर तक पहुंच कैसे पाएंगे। अब ये देखने के लिए सारे पशु-पक्षी, जीवजंतु सब इक्कट्ठे हो गए। कई लोगो ने समझाया उन मेंढकों को के रहने दो ये तुम्हारे बस की बात नही हे, लेकिन इन पांचो ने पूरे विश्वास से तय कर ही लिया था की आज तो शिखर पर पहुंचना ही है।

अब पांचो ने यात्रा शुरू की, छलांग लगाते-लगाते कूद कर एक के बाद एक सीढ़ी चढ़ने लगे। चढ़ते-चढ़ते ये पांचों मेढक पर्वत की अंबाजी शिखर तक पहुंचे, वहां तक पहुंचने तक सब की सांस चढ़ गई थी सब हांफ रहे थे। तब वहा उनकी बिरादरी के कुछ लोगो ने उन्हें समझाया की रहने दो ये हमारे बस की बात नही हैं, बिना वजह की जान गवानी पड़ेगी और उनकी बात सुनकर एक मेढ़क ने वहा से आगे नही जाने का फैसला किया।

पढ़ें और भी प्रेरक कहानियां:

अब बाकि चारों कूदते कूदते पर्वत के गोरखनाथ शिखर तक पहुंचे और वहां तक पहुंचने तक सब जोर जोर से हाफ़ रहे थे | वहां पर भी कुछ बिरादरी वालो ने समझाया की रहने दो यह हमारे बस की बात नही हैं और ऐसे करते करते आखिर में एक ही मेढ़क रहता है और पर्वत की आखिरी शिखर तक पहुंच जाता है।वो बुरी तरह से हाफ़ रहा था और पहुंचने की ख़ुशी में आंख से आंसू आ गए और वहां गुरुदत के चरणों में प्रणाम करके वापस आ गया। अब सभी लोग जो देखने आये थे सब को आश्चर्यचकित हो गया की एक मेढ़क इतने ऊंचे पर्वत के शिखर तक पंहुचा सारे गांव वाले उनका स्वागत करने के लिए आए।

तभी लोगो ने उस मेढ़क से पूछा की यह कैसे किया तुमने लेकिन मेढ़क कुछ भी नही बोला। सब ने फिर भी कितनी बार पूछा लेकिन मेढ़क कुछ भी नही बोला तभी उन स्वागत करने वालों में उस मेढ़क का बेटा भी आया हुआ था। फिर किसी ने उसके बेटे से पूछा की तुमारे पिताजी कुछ बोल क्यों नही रहे हैं ? तब उसने कहा की वो तो बेहरे हैं।

इस कहानी का भावार्थ यह है की अगर हमें अपने कल्याण, समाज के कल्याण के लिए और प्रसन्नता से जीना हे तो लोग हमें कुछ भी कहे हमारी निंदा करे या हमारी स्तुति करे। हमें इन सब बातो पर ध्यान नही देना चाहिए।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: positive story how to get success
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें