Image Loading Kanpur Muslim community boycott made in China flags - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 19:03 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • INDvsENG: दूसरे दिन का खेल खत्म, पहली पारी में भारत का स्कोर 146/1
  • पटना से दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस हुई रद। संपूर्ण क्रांति नियमित रूप...

कानपुर के मुस्लिम समाज ने चीन के बने झंडों को बोला बाय-बाय

कानपुर। आसिम सिद्दीकी First Published:01-12-2016 09:13:14 PMLast Updated:01-12-2016 09:20:31 PM
कानपुर के मुस्लिम समाज ने चीन के बने झंडों को बोला बाय-बाय

दिवाली में चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मुहिम का असर इस बार मुस्लिम समाज के पाकीजा पर्व बारारबी उल अव्वल पर भी देखने को मिलेगी। शुक्रवार को बारारबी उल अव्वल की पहली तारीख है। इस बार समाज के लोग चीन के बने हरे झंडों की जगह भारत में बने झंडों का प्रयोग करेंगे। शहर में मुंबई और गुजरात में बनाए गए झंडों की काफी खेप आ भी चुकी है। आपके अखबार हिन्दुस्तान ने दिवाली पर शहर में चीनी उत्पादों के खिलाफ अभियान चलाया था। इस अभियान को समाज के सभी वर्गों ने सराहा भी था।

बारारबी उल अव्वल पर हरे और सफेद झंडे तैयार किए जाते हैं। झंडे बड़े और छोटे हर प्रकार के बनाए जाते हैं। इन्हें वाहनों और घरों की छतों पर लगाया जाता है। इसके अतिरिक्त अन्य सामग्री जैसे बैज, शर्ट फ्लैग, रिबन भी बनाए जाते हैं। अभी तक इन सभी समानों की आपूर्ति में चीन काफी आगे था, लेकिन इस बार नहीं होगा। चीन का सामान काफी सस्ता बताया जाता था, लेकिन भारतीय बाजारों में बने सामानों के दामों में काफी फर्क नहीं है इसलिए मुसलिम समाज के लोग इसे हाथों-हाथ ले रहे हैं। इस का काफी असर चीन के बाजार पर पड़ रहा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Kanpur Muslim community boycott made in China flags
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड