class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नया आलू आने से पुरान हो गया धड़ाम

नया आलू आने से पुरान हो गया धड़ाम

आलू की नई फसल आने से पुराने आलू के दामों में गिरावट आई है। आढ़तियों के पास हजारों कुंतल स्टाक जमा है। जो सड़ने की कगार पर पहुंच गया हैं। कोल्ड स्टोरेजों की साफ-सफाई होने के चलते पुराना आलू अधिक मात्रा में मण्डी भेजा जा रहा है। आढ़तियों की मानें तो कोल्डस्टोरेज से आलू का भाव न मिलने से काफी नुकसान उठाना पड़ रहा हैं।

इस वर्ष सभी राज्यों में आलू की अच्छी पैदावार होने के चलते बिहार और पश्चिम बंगाल में शहर से आलू नहीं गया। आलम यह हुआ कि सड़ने के बाद भी बचे आलू को कोल्डस्टोरेज में रखा गया। चकरपुर मण्डी में आढ़तियों के पास कुंतलों की तदाद में पुराने का आलू का स्टॉक रखा हुआ है। जो कि बेभाव बिक रहा है। आढ़तियों ने कहा कि दिसम्बर के पहले सप्ताह में ज्यादा तदाद में नया आलू मण्डी में आएगा। इसके बाद इसे फेंकने क ी नौबत आ जाएगी और कुछ आढ़तियों ने आलू फेंकना भी शुरू कर दिया है। पुराना आलू थोक में 50 पैसे से तीन रुपए किलो तक बिक रहा है। थोक में दाम कम होने के बावजूद फुटकर व्यापारी 8 से 12 रुपए किलो बेच मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। आढ़तियों ने बताया कि नोटबंदी होने के चलते इसका हाल और बुरा हो गया है। संयुक्त व्यापार मण्डल के अध्यक्ष राजेश मिश्रा ने कहा कि पंजाब का आलू भी इस बार बहुतायत में आया है। जिससे और ज्यादा स्थिति खराब है।कन्नौज से आने वाले नए आलू की मांग ग्राहक भी ज्यादा करते हैं क्योंकि इसका स्वाद खाने में काफी अच्छा होता हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: New potatoes were awoken by the huge crash