Image Loading old caste certificates were useless - Hindustan
शनिवार, 21 जनवरी, 2017 | 11:44 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • भाजपा पर बसपा का हमला, मायावती बोलीं- केंद्र की नीतियों से लोग परेशान
  • कमांडर्स कांफ्रेंस के लिए देहरादून पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, पूरी खबर पढ़ने के...
  • पढे़ं प्रसिद्ध इतिहासकार रामचन्द्र गुहा का ब्लॉगः गांधी और बोस को एक साथ देखें
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-NCR का न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस, देहरादून में बादल छाए...
  • राशिफलः सिंह राशिवालों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन और आय में वृद्धि हो सकती...
  • Good Morning: आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।

पहले के बने जाति और स्थानीय प्रमाणपत्र हुए बेकार, विद्यार्थी परेशान

जमशेदपुर। मुख्य संवाददाता First Published:19-10-2016 01:33:16 PMLast Updated:19-10-2016 01:33:16 PM

छात्रवृत्ति की योग्यता रखने वाले विद्यार्थियों के लिए नई समस्या खड़ी हो गई है। वे पुराने बने प्रमाणपत्रों के साथ छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। उसे ऑनलाइन सबमिट करने पर कंप्यूटर स्वीकार ही नहीं कर रहा है। हालांकि नया प्रमाणपत्र बनाने के लिए उनके पास समय नहीं है। वैसे भी आजकल ऑनलाइन जाति, आय, स्थानीयता आदि प्रमाणपत्र निर्माण में समस्या हो रही है। 21 दिन की समय सीमा में ये प्रमाणपत्र नहीं बन रहे। आवेदन के साथ यही तीन प्रमाणपत्र संलग्न करना है।

इस समस्या को लेकर मंगलवार को कोआपरेटिव कॉलेज के बीएड के फर्स्ट और सेकेंड सेमेस्टर के दर्जनों विद्यार्थी उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और अपना दुखड़ा सुनाया। उन्होंने जिला कल्याण पदाधिकारी आशीष कुमार सिन्हा को अपनी समस्या बताई और कागजी आवेदन जमा लेने का आग्रह किया। मगर, सिन्हा ने बताया कि यह नीतिगत मामला है। वे इसमें कोई बदलाव नहीं कर सकते। वे इस बात को लेकर उपायुक्त एवं सचिव से मिलें या ज्ञापन सौंपें। इसके आलोक में उन्होंने एक आवेदन तैयार कर उपायुक्त कार्यालय को सौंपा। उपायुक्त के घाटशिला में होने के कारण वे उनसे मिल नहीं सके।

कई प्रखंडों में नहीं बन रहे ऑनलाइन प्रमाणपत्र : विद्यार्थियों ने बताया कि पोटका, चाकुलिया और मनोहरपुर प्रखंडों में ऑनलाइन प्रमाणपत्र बन ही नहीं रहे। इसके कारण इन जगहों के विद्यार्थी तो कोई प्रमाणपत्र बनवाने में असमर्थ हैं। उनका यह भी कहना है जाति प्रमाणपत्र और स्थानीयता प्रमाणपत्र तो बदल नहीं सकता। सिर्फ आय प्रमाणपत्र ही छह-छह महीने पर बनाना पड़ता है। वे अपने पुराने प्रमाणपत्र जमा करने को तैयार हैं। विभाग चाहे तो उसकी असलियत की जांच करा ले। मगर ऑनलाइन आवेदन की अनिवार्यता ने उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: old caste certificates were useless
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड