Image Loading Prabha Jaiswal are rescuing the children from criminality - LiveHindustan.com
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 09:57 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

इनसे सीखें : आपराधिक प्रवृत्ति से बचपन को बचा रहीं प्रभा जायसवाल

जमशेदपुर | संवाददाता First Published:02-12-2016 12:49:19 PMLast Updated:02-12-2016 12:50:24 PM

जमशेदपुर की प्रभा जायसवाल झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले बच्चों को आपराधिक दुनिया से अलग कर उनका जीवन संवारने में लगी हैं। यह काम वह कई सालों से कर रही हैं।

बच्चों को दे रहीं संस्कार : आदर्श सेवा संस्थान की सचिव प्रभा अपनी संस्था के नाम को चरितार्थ करते हुए जमशेदपुर ही नहीं, इसके आस-पास के इलाकों में भी आदर्श सेवा की मिसाल पिछले तीन दशकों से पेश कर रही हैं। बच्चों के बीच रहना, उनके जीवन को संवारना, उनकी पढ़ाई-लिखाई की व्यवस्था करना और अपराध की दुनिया में भटके बच्चों को जीवन की मुख्यधारा से जोड़ना ही उनके जीवन का उद्देश्य है। वह स्लम क्षेत्रों में काम करने वाले 50 से ज्यादा बच्चों को संस्कारित कर चुकी हैं। उनका मानना है कि बच्चे अपराधी नहीं होते, उन्हें बनाया जाता है। उनके कोमल मन को वयस्क अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करते हैं।

अभिभावकों को करती हैं प्रेरित : बच्चों को घरेलू माहौल देने के बाद ऐसे दंपतियों को जिनका अपना बच्चा नहीं है, उन्हें बच्चा गोद लेने के लिए प्रेरित करती हैं। समाज में अनाथ बच्चों को गोद लेने की परंपरा को आगे बढ़ा रही हैं।

चला रहीं मुहिम : पुलिस स्टेशनों में बाल पुलिस कक्ष की विशेष व्यवस्था की गई है। इसमें जिला महिला एवं बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष के तौर पर प्रभा जायसवाल उन बच्चों को जो अपराध की दुनिया में भटककर शामिल हो जाते हैं, उनका काउंसलिंग करती हैं। सही और गलत के बारे में बच्चों को बताया जाता है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Prabha Jaiswal are rescuing the children from criminality
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड