Image Loading Bifar-Aifarend, hang Incab case - Hindustan
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 10:13 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसाला: कपिल और सोनी चैनल ने ढूंढ लिया सुनील का ऑप्शन, शो में होगी नई...
  • टॉप 10 न्यूज: सुप्रीम कोर्ट में आज तीन तलाक, निकाह-हलाला और बहुविवाह पर सुनवाई,...
  • हेल्थ टिप्स: लू के साथ-साथ मुहांसों से भी बचाता है कच्‍चा आम, पढें 5 फायदे
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पाकिस्तान मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन का विशेष लेख-...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, रांची, पटना और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों को किसी सम्‍पत्‍ति से आय के स्रोत विकसित हो सकते...
  • टॉप 10 न्यूज : महोबा रेल हादसा-महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, 9 घायल,...
  • सक्सेस मंत्र : कोई भी काम करने से पहले एक बार सोच लें, क्लिक कर पढ़ें

आयफर-बायफर समाप्त, लटका इंकैब कंपनी का मामला

जमशेदपुर। मुख्य संवाददाता First Published:02-12-2016 12:27:15 PMLast Updated:02-12-2016 12:30:12 PM

बोर्ड फॉर इंडस्ट्रीयल एंड फाइनेंसियल रि-कंस्ट्रक्शन (बायफर) और अपीलेट ऑथिरटी फॉर इंडस्ट्रीयल एंड फाइनेंसियल रि-कंस्ट्रक्शन (आयफर) का अस्तित्व एक दिसंबर को खत्म हो गया। इस कारण इंडियन केबल कंपनी लिमिटेड (इंकैब) के टाटा स्टील द्वारा अधिग्रहण का मामला अगले कुछ महीनों के लिए फिर से टल गया है।

अब इन दोनों संस्थाओं की जगह नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल लेगा। मगर अभी इसका गठन नहीं हुआ है। अनुमान है कि एक महीने में यह अस्तित्व में आ जाएगा। इसके बाद इनमें चल रहे मामलों की सुनवाई शुरू होगी। मगर इंकैब के मामले की सुनवाई में कम से कम तीन-चार महीने तो लग ही जाएंगे। यह जानकारी दि इंडियन केबुल वर्कर्स यूनियन के महामंत्री राम विनोद सिंह ने गुरुवार को दी।

गजट का भी प्रकाशन : उन्होंने दावा किया कि एक दिसंबर से इन दोनों संस्थाओं का अस्तित्व खत्म होने की पक्की सूचना है। यही नहीं इसका गजट प्रकाशन भी हो चुका है और अधिसूचना भी जारी हो गई है। सिंह ने बताया कि यह थोड़ा निराशाजनक है, क्योंकि इंकैब के खुलने की उम्मीद बांधे कर्मचारियों की प्रतीक्षा थोड़ी और लंबी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि फाइनल डीआरएस बायफर में जमा हो चुका था। अब इस पर कंपनी, बैंकर, वित्तीय संस्थान, राज्य सरकार और मजदूरों की बात सुनी जानी थी।

जज का नहीं होना देरी का कारण : पहले टाटा स्टील द्वारा अधिग्रहण पर हाईकोर्ट की रोक लगी थी। इस साल छह जनवरी को यह रोक हटा ली गई थी और बायफर में इसकी सुनवाई होनी थी। मगर वहां कोई जज नहीं होने से सुनवाई नहीं हो सकी। अब बायफर व आयफर का अस्तित्व ही समाप्त हो गया है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Bifar-Aifarend, hang Incab case
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड