सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 21:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शिवसेना ने कहा कि अगर बीमा विधेयक में कर्मचारियों और किसानों के हित के लिए संशोधन नहीं लाया गया तो वह इसका विरोध करेगी।श्रीलंका के राष्‍ट्रपति महिन्‍दा राजपक्षे मंगलवार को लुम्बिनी आएंगे। वह वहां पूर्वाह्न 11 बजे से एक बजे तक रहेंगे। महामाया मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच संभावित बैठक के बारे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि कल तक इंतजार कीजिए।केंद्र के खिलाफ आरोप लगाकर आपराधिक मामलों में आरोपियों की मदद कर रही हैं ममता बनर्जी: केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।
हार का बदला चुकता करने उतरेंगे नाइटराइडर्स
मुंबई, एजेंसी First Published:24-05-11 03:05 PMLast Updated:24-05-11 03:18 PM
Image Loading

आईपीएल-4 के अंतिम लीग मुकाबले में रोमांच की पराकाष्ठा तक पहुंचे मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स पर जीत के बाद मुंबई इंडियंस बुधवार को जब यहां घरेलू दर्शकों के सामने एलिमिनेटर मैच में उसी टीम के खिलाफ उतरेंगे तो उनका लक्ष्य एक बार फिर उसी शानदार प्रदर्शन को दोहराना होगा।

इस मुकाबले को एक तरह से टूर्नामेंट का क्वार्टरफाइनल माना जा सकता है क्योंकि इसमें जीतने वाली टीम को पहले क्वालीफायर में हारने वाली टीम के साथ दूसरे क्वालीफायर में खेलना पड़ेगा। एलिमिनेटर में हारने वाली टीम टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगी।

कोलकाता के पास अपने मैदान पर खेले गए अंतिम लीग मुकाबले में जीत दर्ज कर अंकतालिका में दूसरा स्थान पाने का मौका था लेकिन मुंबई ने नाइटराइडर्स के जबडे से जीत खींचकर उसे चौथे स्थान पर धकेल दिया। नाइटराइडर्स ने हालांकि 175 रन का मजबूत स्कोर खड़ा करने के बाद मुंबई को एकबारगी पिछले पांव पर धकेल दिया था।

लेकिन जेम्स फ्रैंकलिन और अंबाती रायुडू ने 20वें ओवर में लक्ष्मीपति बालाजी की गेंदों पर 23 रन ठोककर मुंबई को अप्रत्याशित जीत दिला दी। कोलकाता की कोशिश जहां उस हार का बदला लेने की होगी वहीं मुंबई का लक्ष्य घरेलू दर्शकों को जीत का तोहफा देना होगा।
 
दोनों टीमों में दिग्गज सितारों की उपस्थिति और पिछले मैच में प्रदर्शन के आधार पर इतना तो तय है कि ईडन गार्डन की तरह वानखेडे स्टेडियम में भी दोनों टीमों के बीच झन्नाटेदार मुकाबला होगा। दोनों टीमें अच्छी तरह जानती हैं कि यह प्लेऑफ मुकाबला है जिसमें हारने के बाद वापसी करने का कोई मौका नहीं है।

गत उपविजेता मुंबई की टीम लीग चरण में अच्छी शुरुआत के बाद अपनी लय खो बैठी और उसे लगातार तीन मैचों में हार का सामना करना पड़ा। कोलकाता की भी कुछ यही स्थिति रही। इस टीम के प्रदर्शन में भी निरंतरता नहीं रही।
 
इन दोनों पर टूर्नामेंट से बाहर होने का खतरा मंडराने लगा था लेकिन किंग्स इलेवन पंजाब की अंतिम लीग मैच में हार के बाद मुंबई और कोलकाता दोनों ही एक झटके प्लेऑफ में पहुंचने में सफल रहीं। लेकिन अंतिम लीग मैच में मुंबई ने अंतिम गेंद पर कोलकाता को उसी की जमीन पर पांच विकेट से हराकर एलिमिनेटर के लिए अपने हौसले बुलंद कर दिए।
 
हालांकि कप्तान सचिन तेंदुलकर का कहना है कि कोलकाता एक अच्छी टीम है और एलिमिनेटर में उलटफेर कर सकती है। पिछले तीन संस्करण में फिसड्डी रही कोलकाता टीम इस बार गौतम गंभीर की कप्तानी में बदले कलेवर और फ्लेवर के साथ नजर आ रही है। टीम 14 लीग मैचों में से आठ में जीत दर्ज करके अंकतालिका में चौथे स्थान पर रही और टूर्नामेंट में पहली बार प्लेऑफ में पहुंचने में सफल रही।
 
दोनों टीमें काफी संतुलित हैं। मुंबई के पास जहां सचिन, अंबाती रायुडू, किरोन पोलार्ड, जेम्स फ्रैंकलिन, एंड्रयू साइमंड्स और टी सुमन के रूप में बेहतरीन बल्लेबाज हैं वहीं लसित मलिंगा, मुनाफ पटेल, हरभजन सिंह और रे प्राइस के रूप में विश्वस्तरीय गेंदबाज हैं।
 
कोलकाता के पास कप्तान गंभीर, जाक कैलिस, मनोज तिवारी, यूसुफ पठान और रेयान टेन डोएश्काटे जैसे धुरंधर बल्लेबाज हैं वहीं गेंदबाजी में ब्रेट ली, इकबाल अब्दुल्ला, शाकिब अल हसन, लक्ष्मीपति बालाजी और रजत भाटिया विपक्षी बल्लेबाजों पर अंकुश लगाने में सक्षम हैं।
 
कुल मिलाकर वानखेडे में एक झन्नाटेदार मुकाबले की पृष्ठभूमि तैयार हो चुकी है। मुंबई की कोशिश जहां पिछले मैच के प्रदर्शन को दोहराना होगा वहीं कोलकाता की कोशिश इसकी पुनरावृत्ति से बचना होगा।

 
 
 
टिप्पणियाँ