class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिकंजे में माल्याः संधि के बाद ब्रिटेन से अब तक सिर्फ 1 का प्रत्यर्पण

शिकंजे में माल्याः संधि के बाद ब्रिटेन से अब तक सिर्फ 1 का प्रत्यर्पण

भारत छोड़कर पिछले एक साल से ब्रिटेन में रह रहे विजय माल्या को मंगलवार को ब्रिटेन में गिरफ़्तार किया गया। माल्या को धोखाधड़ी के आरोपों में उसके प्रत्यर्पण के भारत सरकार के आग्रह पर गिरफ्तार किया गया। हालांकि वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने उसे कुछ घंटे के बाद जमानत दे दी।

भारत सरकार माल्या के प्रत्यर्पण के लिए प्रयासरत है। हालांकि ब्रिटेन से प्रत्यर्पण संधि के बाद से अब तक सिर्फ एक शख्स को ही भारत लाया जा सका है।

ब्रिटेन से 1992 में प्रत्यर्पण संधि हुआ था तब से भारत ने कई प्रत्यर्पण अनुरोध किए हैं लेकिन केवल एक में ही सफलता मिली है। हालांकि ऐसे संकेत हैं कि लंबित मामलों पर भी फैसला हो सकता है। 

ललित मोदी, टाइगर हनीफ, नदीम सैफी, रवि शंकरन और विजय माल्या जैसे लोग भारत में वांछित हैं, जो फिलहाल ब्रिटेन में पनाह लिये हुए हैं। ब्रिटेन से केवल एक शख्स समीरभाई वीनूभाई पटेल का अक्टूबर 2016 में प्रत्यर्पण हुआ था, वह 2002 गुजरात दंगे से जुड़े केस में वांछित था।

सूत्रों के अनुसार, धोखाधड़ी के मामलों में जो भारतीय वांछित है, उसका जल्द ही प्रत्यर्पण हो सकता है। ऐसा कहा जा रहा है कि उसका केस ब्रिटिश प्रत्यर्पण प्रक्रिया के अंतिम चरण में है।

माल्या पर है 17 बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का कर्ज  

बता दें कि माल्या पर 17 भारतीय बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का कर्ज न चुकाने का आरोप है। भारत में माल्या को 'विल्फ़ुल डिफ़ॉल्टर' घोषित किया गया है और ऐसे आरोप भी लगे हैं कि उन्होंने गिरफ़्तारी से बचने के लिए पिछले साल दो मार्च को देश छोड़ा था। 

कभी अपने को ‘द किंग ऑफ गुड टाइम्स’ कहने वाले 61 वर्षीय माल्या को मंगलवार सुबह उस समय गिरफ्तार कर लिया गया जब वह मध्य लंदन पुलिस थाने में पेश हुआ। 

स्कॉटलैंड यार्ड ने कहा, ‘मेट्रोपॉलिटन पुलिस की प्रत्यर्पण इकाई ने आज (मंगलवार, 18 अप्रैल) सुबह प्रत्यर्पण वारंट पर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। विजय माल्या को धोखाधड़ी के आरोप के सिलसिले में भारतीय अधिकारियों की ओर से गिरफ्तार किया गया। ’ 

भगोड़ा माल्याः गिरफ्तारी के बाद मिली जमानत, भारत मजबूती से रखेगा पक्ष

सेंट्रल लंदन पुलिस थाने में माल्या पेश

मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने कहा कि माल्या को तब गिरफ्तार किया गया जब वह मध्य लंदन पुलिस थाने में पेश हुआ। 
वह लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत पेश हुआ और कुछ घंटे बाद जमानत मिलने के बाद अपनी कानूनी टीम के साथ बाहर आते देखा गया। 

माल्या की टीम के एक सदस्य ने जमानत शर्तों का कोई ब्योरा दिए बिना अदालत में कहा, ‘यह एक स्वैच्छिक कार्रवाई थी। वह कुछ मिनट में बाहर आ जाएंगे।’ 

माल्या का मीडिया पर ताना

शराब कारोबारी ने जमानत मिलने के बाद कहा, ‘सामान्यत: यह भारतीय मीडिया द्वारा फैलाई जा रही सनसनी है। अदालत में प्रत्यर्पण सुनवाई मंगलवार को अपेक्षित तौर पर शुरू हुई। ’ 

माल्या की निष्क्रिय हो चुकी किंगफिशर एअरलाइन्स पर विभिन्न बैंकों की नौ हजार करोड़ रुपये से अधिक की देनदारी है। वह दो मार्च 2016 को भारत से भागकर ब्रिटेन पहुंच गया था। जनवरी में एक भारतीय अदालत ने बैंकों के एक समूह को ऋण वसूली की प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया था। 

भारतीय अधिकारियों की पहली कामयाबी

वरिष्ठ भारतीय अधिकारियों ने उसकी गिरफ्तारी को मामले में पहली सफलता बताया जिसमें अब ब्रिटेन में यह तय करने के लिए एक कानूनी प्रक्रिया होगी कि क्या माल्या को भारतीय अदालतों में आरोपों का सामना करने के लिए प्रत्यर्पित किया जा सकता है। 

शिकंजाः भगोड़े विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटिश सरकार तैयार

माल्या की गिरफ्तारी वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा दिए गए उस संकेत के हफ्तों बाद हुई है जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी ब्रिटेन यात्रा के दौरान बातचीत में माल्या के प्रत्यर्पण का मुद्दा शामिल होगा। 

भारत ने ब्रिटेन के साथ प्रत्यर्पण संधि के अनुरूप आठ फरवरी को एक ‘नोट वर्बेल’ के जरिए माल्या के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक आग्रह किया था। नयी दिल्ली ने आग्रह सौंपते हुए कहा था कि माल्या के खिलाफ उसके पास एक ‘जायज’ मामला है। इसने उल्लेख किया था कि यदि प्रत्यर्पण आग्रह का सम्मान किया जाता है तो यह ‘हमारी चिंताओं के प्रति’ ब्रिटेन की ‘संवेदनशीलता’ को प्रदर्शित करेगा। 

सचिन जोशी ने विजय माल्या के किंगफिशर विला का कब्जा लिया

प्रत्यर्पण की प्रक्रिया

पिछले महीने ब्रिटिश सरकार ने माल्या के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया के संबंध में भारत के आग्रह को प्रमाणित कर इसे आगे की कार्रवाई के लिए एक जिला न्यायाधीश के पास भेज दिया था। 

ब्रिटेन से प्रत्यर्पण की प्रक्रिया में न्यायाधीश द्वारा गिरफ्तारी वारंट जारी करने सहित कई कदम शामिल होते हैं।  वारंट के मामले में व्यक्ति को गिरफ्तार किया जाता है और प्रारंभिक सुनवाई के लिए अदालत लाया जाता है। फिर विदेश मंत्री द्वारा अंतिम फैसला किए जाने से पहले एक प्रत्यर्पण सुनवाई होती है। वांछित व्यक्ति को किसी भी फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक उच्च अदालतों में अपील करने का अधिकार होता है। 

इस साल के शुरू में एक सीबीआई अदालत ने 720 करोड़ रुपये के आईडीबीआई बैंक ऋण डिफॉल्ट मामले में माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। 

'लिकर किंग' फंसे:फेरा मामले में माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:vijay mallya gets bail in just 3 hours after arrest at  london in britain
From around the web