Image Loading scientific wireless internet wi-fi network - Hindustan
रविवार, 23 अप्रैल, 2017 | 15:33 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मिक्स: तो क्या सच में यूलिया की वजह से सलमान से दूरी बना रही हैं कैटरीना!...
  • टीवी गॉसिप: क्रिकेट छोड़ भज्जी ने किया पोल डांस। कपिल ने सुनील को कहा थैंक्स।...
  • नवी मुंबई: कार शोरूम में आग लगाने से दो लोगों की मौत
  • टॉप 10 न्यूज़: विडियो में देखें देश और दुनिया की अभी तक की बड़ी खबरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: विराट की टीम को मजबूती, इस स्टार बल्लेबाज की हुई वापसी। पढ़ें...
  • बॉलीवुड मसाला: जिन्होंने शो छोड़ा कपिल ने उन्हें कहा शुक्रिया, देखें EMOTIONAL VIDEO।...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर में आज रहेगी गर्मी। लखनऊ में छाए रहेंगे बादल। पटना,...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः कन्या राशि वालों को परिवार का सहयोग मिलेगा, नौकरी में तरक्की के बन...
  • सक्सेस मंत्र: काम को बोझ समझकर नहीं बल्कि पूरे मन और आनंद से करें
  • MCD चुनाव 2017: थोड़ी देर में शुरू होगा मतदान, 56 हजार सुरक्षाकर्मी करेंगे निगरानी
  • MIvDD : मुंबई ने दिल्ली को 14 रन से हराया

नई वाई-फाई प्रणाली देगी 100 गुना तेज इंटरनेट

लंदन, एजेंसियां First Published:19-03-2017 10:44:47 PMLast Updated:19-03-2017 10:44:47 PM
नई वाई-फाई प्रणाली देगी 100 गुना तेज इंटरनेट

वैज्ञानिकों ने हानिरहित इन्फ्रारेड किरणों पर आधारित एक नया वायरलेस इंटरनेट विकसित किया है। यह मौजूदा वाई-फाई नेटवर्क से 100 गुना तेज है। साथ ही अपेक्षाकृत अधिक उपकरणों का समर्थन करने की क्षमता है। धीमा वाई-फाई एक बड़ी समस्या है। इसका अनुभव लगभग हर व्यक्ति को है। घर में वायरलेस उपकरण अपेक्षाकृत अधिक डाटा खपत करते हैं। यह खपत बढ़ती ही जाती है और वाई-फाई नेटवर्क को संकुलित (कंजस्टेड) करती है।

लेकिन नीदरलैंड की इंधोवेन यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने जो वायरलेस नेटवर्क विकसित किया है उसकी क्षमता 40 गीगाबाइट प्रति सेकेंड से भी अधिक है। बेशक यह काफी अधिक है। साथ ही इसको साझा करने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि हर उपकरण को अपनी खुद की प्रकाश की किरण मिलती है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, नई प्रणाली साधारण और सस्ती है। इसे स्थापित करना आसान है। इसका वायरलेस डाटा कुछेक केंद्रीय ‘लाइट एंटीना’ से आता है, जो सटीक तरीके से एक ऑप्टिकल फाइबर द्वारा भेजी गई किरणों को निर्देशित करता है। इन एंटीना में एक जोड़ी सलाखें होती हैं जो विभिन्न कोणों पर विभिन्न वेबलेंथ की प्रकाश किरणें छोड़ती हैं। प्रकाश की वेबलेंथ बदलने से प्रकाश किरण की दिशा बदल जाती है। इसमें सुरक्षित इन्फ्रारेड वेबलेंथ का इस्तेमाल किया गया है जो आंखों को नुकसान नहीं पहुंचाता।

शोधकर्ताओं ने कहा कि यदि आप इसके उपयोक्ता के रूप में टहलते हैं और आपका स्मार्टफोन या टैबलेट लाइट एंटीना के दृष्टिपथ से बाहर हो जाता है तब अन्य लाइट एंटीना काम संभाल लेता है। दरअसल यह नेटवर्क अपने रेडियो सिग्नल के जरिये हरेक वायरलेस उपकरण तक पहुंचता है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा वाई-फाई 2.5 से पांच गीगा हर्ट्ज की आवृत्ति का रेडियो सिग्नल का इस्तेमाल करते हैं। नई प्रणाली में 1500 नैनोमीटर या इससे अधिक वेवलेंथ पर इन्फ्रारेड प्रकाश का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें प्रकाश की आवृत्ति लगभग 200 टेरा हर्ट्ज होती है। इससे डाटा क्षमता काफी बढ़ जाती है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: scientific wireless internet wi-fi network
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड