Image Loading india strategic dialogue un jaish-e-mohammad masood azhar united nations - Hindustan
रविवार, 26 फरवरी, 2017 | 17:43 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • महाराजगंज में बोले अखिलेश यादव, जनता अभी तक मोदी के मन की बात नहीं समझ पाई
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, अब तक DIGI धन योजना के तहत 10 लाख लोगों को इनाम दिया गया
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, ISRO ने देश का सिर ऊंचा किया
  • सपा की धुआंधार सभाएं आज, लालू यादव भी प्रचार करने उतरेंगे मैदान में। पूरी खबर...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, देहरादून और रांची में रहेगी हल्की धूप।...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: पानी चुनावी मुद्दा क्यों नहीं?
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः मिथुन राशिवाले आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • Good Morning: BMC चुनाव: कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने से किया इंकार, चुनाव आयोग ने...

मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने पर चीन ने दिए कुतर्क

बीजिंग, एजेंसी First Published:17-02-2017 05:13:42 PMLast Updated:17-02-2017 05:13:42 PM
मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने पर चीन ने दिए कुतर्क

भारत के साथ रणनीतिक वार्ता से पहले चीन ने शुक्रवार को कहा कि संयुक्त राष्ट्र में जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में प्रतिबंधित करने के लिए उसे ठोस साक्ष्य चाहिए। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग सुआंग ने संवाददाताओं को बताया कि विदेश सचिव एस जयशंकर और चीन के कार्यकारी उप विदेश मंत्री झांग येसुई 22 फरवरी को बीजिंग में नए दौर की रणनीतिक वार्ता करेंगे।

उन्होंने बताया कि रणनीतिक वार्ता के दौरान दोनों पक्ष अंतरराष्ट्रीय हालात और आपसी हितों से जुड़े अन्य क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। रणनीतिक वार्ता को भारत और चीन के बीच संचार और संपर्क का अहम मंच माना जाता है। अजहर के मुद्दे और परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत के प्रवेश समेत कई अन्य मुद्दों को लेकर द्विपक्षीय संबंधों में टकराव से जुड़ी खबरों के बारे में पूछे जाने पर गेंग ने कहा कि मतभेद केवल स्वाभाविक है। उन्होंने कहा कि आगामी रणनीतिक वार्ता समेत सभी तरह के संपर्कों के जरिये दोनों पक्ष मतभेद को कम करने और सहयोग के लिए नई सहमति तक पहुचंने के लिए दोनों पक्ष संपर्क बढ़ा सकते हैं।

अजहर के मुद्दे पर गेंग ने कहा कि ठोस साक्ष्य मिलने पर ही चीन इस कदम का समर्थन करेगा। उन्होंने कहा कि हमारे लिए सिर्फ एक ही मापदंड महत्वपूर्ण है, और वो है ठोस साक्ष्य। ठोस साक्ष्य होने की स्थिति में आवेदन को स्वीकार किया जा सकता है। ठोस सबूत नहीं होने की स्थिति में सहमति बनने के आसार कम हैं।


जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: india strategic dialogue un jaish-e-mohammad masood azhar united nations
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें