Image Loading india put marginalized pakistan by brics - Hindustan
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 00:38 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बिहार आईएएस अफसरों ने कहा, मुख्यमंत्री का भी मौखिक आदेश नहीं मानेंगे, पूरी खबर...
  • 1 मार्च से 5वें ट्रांजेक्शन पर देना होगा 150 रुपए टैक्स, पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक...
  • अखिलेश का पीएम पर वार, कहा- देश को अपने किए काम बताएं मोदी, पूरी खबर के लिए क्लिक...
  • जनता के मुद्दे हमारे लिए महत्वपूर्णः यूपी सीएम अखिलेश यादव
  • महाराजगंज में बोले अखिलेश यादव, जनता अभी तक मोदी के मन की बात नहीं समझ पाई
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, अब तक DIGI धन योजना के तहत 10 लाख लोगों को इनाम दिया गया
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, ISRO ने देश का सिर ऊंचा किया
  • सपा की धुआंधार सभाएं आज, लालू यादव भी प्रचार करने उतरेंगे मैदान में। पूरी खबर...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, देहरादून और रांची में रहेगी हल्की धूप।...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: पानी चुनावी मुद्दा क्यों नहीं?
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः मिथुन राशिवाले आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • Good Morning: BMC चुनाव: कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने से किया इंकार, चुनाव आयोग ने...

भारत ने पाक को ‘क्षेत्रीय अछूत’ देश के रूप में पेश किया: चीनी मीडिया

बीजिंग एजेंसी First Published:19-10-2016 08:54:25 PMLast Updated:19-10-2016 08:54:25 PM
भारत ने पाक को ‘क्षेत्रीय अछूत’ देश के रूप में पेश किया: चीनी मीडिया

भारत ने गोवा ब्रिक्स-बिम्सटेक सम्मेलन के जरिये पाकिस्तान की छवि ‘क्षेत्रीय अछूत’ देश के रूप में पेशकर उसे हाशिए पर डाल दिया है। यह कहना है चीन के सरकारी मीडिया का।

ग्लोबल टाइम्स में लिखे गए एक लेख में कहा गया है, पाकिस्तान को अलग-थलग करने की दिशा में भारत ने इस्लामाबाद को छोड़कर इस क्षेत्र के सभी देशों को आमंत्रित किया। उड़ी हमले के बाद भारत द्वारा इस्लामाबाद में आयोजित होने वाले दक्षेस सम्मेलन में भाग नहीं लेने के फैसले का जिक्र करते हुए अखबार ने लिखा, सार्क सम्मेलन के नहीं होने से भारत को यह दिखाने का एक सुनहरा अवसर मिला था कि वह पाकिस्तान के बिना ही इसी तरह के एक सम्मलेन का आयोजन बिना बाधा के कर सकता है। भारत ने गोवा सम्मेलन के रूप में दुनिया के सामने एक बड़ा प्रभाव छोड़ा।

भारत ने चतुराई के साथ किया आयोजन
लेख में कहा गया है कि पिछले सम्मेलनों और गोवा में हुए सम्मेलन में यह अतंर था कि नई दिल्ली ने बड़े चतुराई के साथ ‘ब्रिक्स’ बैठक में ही ‘बिम्सटेक’ का भी आयोजन कर डाला। क्षेत्रीय देशों बांग्लादेश, श्रीलंका, थाइलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान को ब्रिक्स की उभरती हुई आर्थिक अर्थव्यवस्थाओं के साथ लाकर भारत ने एक ‘खोखले’ और ‘मरणासन्न’ हो चुके संगठन में फिर से जान फूंक दी। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, दक्षेस की तुलना में बिम्सटेक की संभावना एक अधिक प्रभावी विकल्प के तौर पर हुई है। उपमहाद्वीप में पाकिस्तान के बिना एक समूह का निर्माण बेहतर तरीके से हो रहा है जिसमें भारत का प्रभुत्व छोटे देशों के लिए बढ़ सकता है।

एनएसजी सदस्यता में मददगार साबित होगा बिम्सटेक
बिम्सटेक सम्मेलन भारत को उसकी परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) सदस्यता के साथ-साथ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट दिलाने में भी मदद कर सकता है जिसे चीन ने रोका हुआ है। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भारत ने मुखर और समान विचारधारा वाले देशों को साथ लाकर अपनी सुधारवादी मांगों को एक आदर्श व्यवस्था के तहत सामने रखा है। यह साझा मंच भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण बन गया है, विशेषकर कि एनएसजी की सदस्यता और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट को हासिल करने को लेकर।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: india put marginalized pakistan by brics
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड