class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक कदम और बढ़ा चीन, प्रयोगशाला से जुड़ा मानवयुक्त यान

अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक कदम और बढ़ा चीन, प्रयोगशाला से जुड़ा मानवयुक्त यान

चीन का मानवयुक्त अंतरिक्ष यान शेनझाऊ 11 अपनी त्यानगोंग-2 अंतरिक्ष प्रयोगशाला से जुड़ गया है और उसके अंतरिक्ष यात्री प्रयोगशाला में प्रवेश कर गये हैं।

चीन की आधिकारिक समाचार एजेन्सी शिन्हुआ ने आज यह जानकारी दी। चीन अपने अंतरिक्ष यान को अपनी प्रायोगशाला से जोड़ने वाला विश्व का तीसरा देश बन गया है। अमेरिका तथा रूस विश्व के दो ऐसे देश है जो अपने अंतरिक्ष यान को अंतरिक्ष केन्द्र से जोड़ने की तकनीक पहले ही हासिल कर चुके हैं।

चीन के इस मिशन के अंतर्गत उसके अंतरिक्ष यात्री प्रयोगशला में 30 दिन रहेंगे। उनका अंतरिक्ष का कार्यक्रम 33 दिन का है। चीन ने 2013 में भी मानवयुक्त अंतरिक्ष यान भेजा था और उस समय उसके अंतरिक्ष यात्री 16 दिन तक अंतरिक्ष में रुके थे। 

चीन अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम को प्राथमिकता दे रहा है ताकि वह आगे चलकर अंतरिक्ष में भी बड़ी शक्ति बन सके। उसका कहना है कि उसका अंतरिक्ष कार्यक्रम शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए है। अमेरिका के रक्षा विभाग ने चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रम का उल्लेख किया है और कहा है कि वह अंतरिक्ष में अपनी क्षमता बढ़ा रहा है ताकि वह उसका उपयोग सैनिक उद्देश्य के लिए कर सके ।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:chinese manned spacecraft shenzhou 11 successfully docks with chinese space station