class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी की राखी बहन और बलोच एक्टिविस्ट करीमा ने हमाल से की शादी

मोदी की राखी बहन और बलोच एक्टिविस्ट करीमा ने हमाल से की शादी

1/2 मोदी की राखी बहन और बलोच एक्टिविस्ट करीमा ने हमाल से की शादी

करीमा बलोच ने की शादी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बीते रक्षाबंधन के मौके पर राखी भेजने वालीं बलूचिस्तान की एक्टिविस्ट करीमा बलोच ने आज़ादी की लड़ाई में उनका साथ दे रहे एक्टिविस्ट हमाल हैदर से शादी कर ली है। दोनों की शादी बीती 17 तारिख को कनाडा के टोरंटो में हुई। दोनों ही बलोच एक्टिविस्ट दुनिया भर में बलूचिस्तान की आज़ादी के आंदोलन के लिए समर्थन जुटाने का काम करते हैं। साथ ही दोनों मोदी की बलूचिस्तान नीति के भी कट्टर समर्थक माने जाते हैं। 

बता दें कि पाकिस्तानी लेखक-पत्रकार तारेक फतह ने ट्वीट कर दोनों की शादी की जानकारी साझा की हैं। दोनों ही पाकिस्तानी आर्मी द्वारा बलूचिस्तान में जारी नरसंहार और हिंसा की घटनाओं के खिलाफ लगातार आवाज़ उठाते रहे हैं और इसी के चलते दोनों को मुल्क से बाहर रहना पड़ रहा है। जानकारों के मुताबिक करीमा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तानी आर्मी को लेकर जितनी मुखर हैं उसी तरह हमाल भी पाक आर्मी की हिंसा के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समर्थन जुटाने और प्रोटेस्ट आयोजित करने के काम में माहिर माने जाते हैं। 

मोदी को राखी भेजकर करीमा आई थीं सुर्ख़ियों में
बता दें कि करीमा पाकिस्तान सरकार और सेना की कट्टर आलोचक हैं और रक्षाबंधन पर पीएम मोदी को राखी भेजने के बाद सुर्ख़ियों में आ गयी थीं। इससे पहले पीएम मोदी ने भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर अपनी स्पीच में बलूचिस्तान के लोगों के खिलाफ हो रहे मानवाधिकार अपराधों पर अपनी चिंता जाहिर की थी। रक्षाबंधन के मौके पर मोदी को भेजे नेक वीडियो सन्देश में करीमा ने मोदी का शुक्रिया अदा करते हुए कहा था कि हम अपनी जंग खुद लड़ेंगे। हम चाहते हैं कि आप (मोदी) हमारी आवाज बन जाएं और दुनिया भर में हमारी आवाज पहुंचाएं। 

करीमा ने कहा था "बलूचिस्तान की एक बहन आपको भाई मानकर कुछ कहना चाहती है। मेरा नाम करीमा बलोच है। मैं बलूचिस्तान स्टूडेंट्स एसोसिएशन की चेयरपर्सन हूं। हमारे लोग पाकिस्तानी आर्मी के हाथों मारे गए हैं या कई लापता कर दिए गए हैं। बलूचिस्तान की कई बहनें अपने भाइयों की राह ताक रही हैं। शायद वो कभी लौट कर न आएं और बहनों का इंतजार शायद कभी खत्म ही न हो। लेकिन इस दिन (रक्षाबंधन) के हवाले से ये कहना चाहती हूं कि बलूचिस्तान की सभी महिलाएं आपको भाई मानती हैं। आपसे ये भी दरख्वास्त करती हैं कि आप यहां जेनोसाइड और ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन के खिलाफ इंटरनेशनल फोरम पर बलूचिस्तान की आवाज बनेंगे। बलूचिस्तान की उन बहनों की आवाज बनेंगे, जिनके भाई लापता हैं।" करीमा ने ये संदेश गुजराती भाषा में मोदी तक पहुंचाया था। 

मोदी ने क्या कहा था
मोदी ने लाल किले से दी स्पीच में कहा था, ''पिछले कुछ दिनों में बलूचिस्तान, गिलगित, पाक के कब्जे वाले हिस्से के लोगों ने मुझे बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है। मेरा आभार व्यक्त किया है। मेरे प्रति सद्भावना जताई है। दूर-दूर बैठे लोग हैं। जिस धरती को मैंने देखा नहीं, जहां के लोगों से कभी मुलाकात नहीं हुई, वे प्रधानमंत्री का आदर करते हैं तो ये मेरे सवा सौ करोड़ देशवासियों का सम्मान है। मैं गिलगित, बलूचिस्तान और पाक के कब्जे वाले कश्मीर के लोगों का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहता हूं।''

पाकिस्तान के टुकड़े कर देने के समर्थक हैं करीमा के जीवनसाथी हमाल...

Next
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:balochistan activists karima baloch and hammalhaidar got married in toronto