Image Loading 8-year-old writes best-seller how to deal with and care for your annoying little brother - Hindustan
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 10:13 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसाला: दूसरे दिन 'फिल्लौरी' ने पकड़ी रफ्तार, कमाए इतने करोड़, यहां पढ़ें,...
  • भारतीय नागरिकता मिलने के दो दिन बाद ही शॉन टैट ने क्रिकेट के हर फॉरमैट से...
  • #INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल शुरू, टीम इंडिया का स्कोर 248/6, रिद्धमान साहा (10) और रविंद्र...
  • टॉप 10 न्यूज: यूपी में आज भी हड़ताल पर होंगे मीट और मछली व्यापारी, सुबह 9 बजे तक की...
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: बिमटेक के डायरेक्टर हरिवंश चतुर्वेदी का विशेष लेख- पिछड़ता...
  • पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी...
  • हेल्थ टिप्स: सीढ़ी चढ़ने से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा, क्लिक कर पढ़ें
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और लखनऊ में होगी तेज धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आय में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का हाल जानने के...
  • सक्सेस मंत्र: अवसर जरूर द्वार खटखटाते हैं, बस पहचानना आना चाहिए, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: कश्मीर में आतंक-PDP मंत्री के घर पर हमला, दो पुलिसकर्मी हुए घायल, अन्य...

8 साल की बहन ने छोटे भाई की देखभाल पर लिखी बुक, बेस्ट सेलर में शामिल

बर्मिंघम, एजेंसी First Published:18-03-2017 01:13:23 PMLast Updated:18-03-2017 01:13:23 PM
8 साल की बहन ने छोटे भाई की देखभाल पर लिखी बुक, बेस्ट सेलर में शामिल

ब्रिटेन की निया म्या रीज हैं तो आठ साल की, लेकिन पैरेंटिग के उसके अनुभव ने उसे चर्चा में ला दिया है। दरअसल निया ने नटखट छोटे भाई की देखभाल और उनकी समस्याओं से निपटने को लेकर किताब लिखी है, जो बेस्टसेलर बन गई है। निया को छोटे भाई का ध्यान अक्सर रखना पड़ता है। उसे खिलाने-पिलाने से लेकर उसकी सभी जिम्मेदारी निया ही निभाती रही है। इसलिए उसे खासा अनुभव हो गया। तब उसने किताब लिखने का सोचा। और किताब 'हाऊ टु डील विथ केयर फॉर योर एनॉयिंग लिटिल ब्रदर' ने आकार लिया।

निया बड़ी बहन बनकर खुश है, पर जैसा कि सभी बड़ी बहनें जानती हैं, छोटे भाई को हैंडल करना आसान नहीं है, निया भी इस दौर से गुजरी हैं। निया बताती हैं 'कई बार वो बॉल फेंक देता है, जो कहीं भी चली जाती है। मैं बार-बार ढूंढ़कर देती हूं। कई बार वो मुझे बॉल मार देता है। बिना कारण रोने लग जाता है। उसे समझा नहीं सकते और नन्हें शैतान समझना भी नहीं चाहते। कई बार मुझे मना करना पड़ता है, पर वो सुनने को तैयार ही नहीं होता।'

उसे हैंडल करते-करते निया के दिमाग में इतनी बातें दर्ज हो गईं कि बुक लिखने में उसे कुछ ही दिन लगे। खैर निया की मेहनत बेकार नहीं गई। उसकी ये किताब अमेजन की बेस्ट सेलर लिस्ट (पैरेंटिंग) में शामिल हो गई है।

बुक की शुरुआत भी रोचक तरीके से हुई है। पिछले साल निया पहली क्लास में थी तो उसकी टीचर ने असाइनमेंट दिया। इस असाइनमेंट में ही उसने चाइल्ड केयर के सारे अनुभव लिख दिए। निया की मां चेरिनिटा बताती हैं 'उसकी लगन देखकर मुझे लगा कि निया को इस प्रोजेक्ट पर काम जारी रखना चाहिए ताकि लेखन और सुधर सके।' वो हमेशा कहतीं सेंटेंस फॉर्मेशन, स्पैलिंग, शब्दों के इस्तेमाल पर मन लगाकर काम करो तो ये समर प्रोजेक्ट शानदार हो जाएगा। पर नतीजा समर प्रोजेक्ट से कहीं बड़ा हो गया।

खास बात यह है कि निया ने ये सब खेलते-कूदते सीखा है और यही बात वो अपने स्कूल के अन्य बच्चों से भी शेयर करती है। इतनी छोटी बच्ची को समझदारी भरी बातें करते देखकर हर कोई हैरान रह जाता है। जब उससे पूछा गया कि क्या पांच साल तक के सभी छोटे भाई परेशान करते हैं, तो उसका जवाब था 'बिल्कुल, पर मेरा भाई थोड़ा कम करता है।'

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: 8-year-old writes best-seller how to deal with and care for your annoying little brother
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें