Image Loading eye disease pink eye conjunctivitis problem health tips - Hindustan
गुरुवार, 23 फरवरी, 2017 | 10:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों के लिए सुबह नौ बजे तक 10.23% मतदान, पल-पल की अपेडट के...
  • शेयर मार्केटः मजबूती के साथ खुले बाजार, 48 अंकों की तेजी के साथ सेंसेक्स 28,912 पर,...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया का टॉस जीत बल्लेबाजी का फैसला
  • शोपियां में आतंकी हमला, सेना के 3 जवान शहीद, 1 महिला की भी मौत। पूरी खबर पढ़ने के...
  • आज के 'हिन्दुस्तान' में पढ़ें बिमटेक के डायरेक्टर हरिवंश चतुर्वेदी का लेखः...
  • दिल और दिमाग दोनों को ठंडा रखता है कद्दू, पढ़ें इससे होने वाले 6 फायदे
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः वृश्चिक राशिवालों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, मित्र के सहयोग से...
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों पर मतदान शुरू, 680 उम्मीदवार आजमा रहे हैं किस्मत

आंख का लाल होना और सूजन आने पर अपनाएं ये 7 TIPS

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:17-02-2017 09:50:23 PMLast Updated:17-02-2017 09:50:23 PM
आंख का लाल होना और सूजन आने पर अपनाएं ये 7 TIPS

मौसम में बदलाव के समय यूं तो कई बीमारी होने का डर रहता है पर आंख की बीमारी पिंक आई सबसे आम है। इस मौसम में आंख लाल हो जाता है। सूजन भी हो जाता है। यह संक्रमण से होता है। इसे केंजेक्टिवाइटिस, पिंक आई या जय बंगला भी कहते हैं। एक-दूसरे में फैलने वाले इस वायरस से बचाव ही एकमात्र विकल्प है।
डॉ. सुभाष चन्द्र यादव बताते हैं कि यह बीमारी किसी भी उम्र के स्त्री-पुरुष या बच्चे को हो सकती है। इसका असर 10 से 12 दिनों तक रहता है। इसे जल्द ठीक करने के लिए कई घरेलू नुस्खे अपनाएं जा सकते हैं।

क्या हैं लक्षण:
आंखे लाल हो जाना,सूजन हो जाना,दर्द करना, आंखों से पानी बहना,कम दिखाई देना,दूसरे लोगों में फैलना।

क्या हैं कारण:
मौसम बदलने पर संक्रमण से यह होती है। संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से या संक्रमित आंखों को देखने से यह हो सकती है।

क्या करें:
आंखों को संक्रमित न होने दें। संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें। संक्रमित आंखों को न देखें। साफ-सफाई रखें। हरी सब्जियों का अधिक उपयोग करें।दिन में दो लीटर पानी पीएं। ताकि आंखों की गंदगी बाहर निकते रहे। भरपूर नींद लें।

घरेलू उपचार:
1. बर्फ के टुकड़े से संक्रमित आंखों की नियमित सिंकाई करें। इससे दर्द से तत्काल राहत मिलेगा।
2. दिन में तीन-चार बार हल्के गर्म पानी से सिंकाई करें।
3. संक्रमित आंखों में गुलाब जल डालें।
4. बराबर मात्रा में गर्म दूध और शहद का मश्रिण बनाएं। इससे आंखों को धोयें। मश्रिण को आई ड्रॉप की तरह आंखों में डालें। संक्रमण से तत्काल राहत मिलेगी।
5. धनिया को पानी में उबालें। उसे छान कर ठंडा कर दें। इससे आंखों को धोयें। लालिमा, सूजन व दर्द से तत्काल राहत मिलेगा।
6. गुलाब, लेवेण्डर व कैमो माइल तेल से सिंकाई लाभदायक होता है। गर्म तेज को किसी साफ कपड़े में डालकर ठंडा होने तक सिंकाई करना चाहिए। दिन में तीन बार 8-10 मिनट तक सिंकाई से काफी राहत मिलती है।
7. एक कप सेब का सिरका और एक कप पानी लेकर मश्रिण तैयार करें। इस मश्रिण से आंखों को धोयें। लाभ मिलेगा।

दवा का उपयोग:
अधिक परेशानी होने पर किसी चिकत्सिक से सलाह लें। चिकत्सिक द्वारा बताए दवा या ड्राप का इस्तेमाल करें।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: eye disease pink eye conjunctivitis problem health tips
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें