Image Loading Party, devoid of toilets, CDO, verification - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 09:22 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मौसम अलर्टः उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड। दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और...
  • मिथुन राशिवालों की तरक्की के मार्ग खुलेंगे, आय बढ़ेगी। क्या कहते हैं आपके...
  • ये TIPS आजमाएंगे तो तुरंत दूर होगी एसिडिटी, जानें ये 5 जरूरी बातें
  • घने कोहरे के कारण 67 ट्रेनें लेट, 30 ट्रेनों के समय में बदलाव और दो ट्रेनें रद्द की...
  • GOOD MORNING: अब कर्मचारियों को वेतन से PF कटवाना जरूरी नहीं होगा, देश-दुनिया की बड़ी...

पाटी ब्लॉक के शौचालयों का होगा भौतिक सत्यापन

चम्पावत। कार्यालय संवाददाता First Published:01-12-2016 09:23:34 PMLast Updated:01-12-2016 09:30:20 PM

पाटी ब्लॉक को खुला शौच मुक्त घोषित किए जाने से संबंधित अनियमितताओं पर सीडीओ ने सख्त रुख अपना लिया है। सीडीओ ने राजस्व विभाग की टीमों को गांव-गांव घूमकर शौचालयों का भौतिक सत्यापन करने के निर्देश दिए हैं। बकायदा टीमें मौके पर जाकर संबंधित शौचालयों का फोटो भी खींचेंगी, जिसे बाद में वेबसाइड पर अपलोड किया जाएगा। इसके बाद लाभ से वंचित लोगों की दोबारा सूची तैयार की जाएगी।

चम्पावत जिले का पाटी ब्लॉक बीते पांच नवंबर को प्रशासन की ओर से खुला शौच मुक्त घोषित किया गया था। प्रशासन के मुताबिक ब्लॉक के हर घर में पक्का शौचालय बन चुका है। गरीब परिवारों के लिए स्वजल और मनरेगा के तहत सरकार की ओर से पक्के शौचालयों का निर्माण पूरा हो चुका है। इस बात की पड़ताल के लिए आपके प्रिय हिन्दुस्तान ने हालिया दिनों में ब्लॉक के विभिन्न गांवों का भ्रमण किया। पड़ताल में सामने आया था कि इसी ब्लॉक की ग्राम सभा गागर के गगराड़ तोक में छह परिवार, टकना ग्राम पंचायत के ग्राम मथेला छाना में छह परिवार, ग्राम पंचायत पीपी ढींग में तीन परिवार, ग्राम पंचायत मोलना जाख में 14 परिवार अब भी खुले में शौच को बाध्य हो रहे हैं। इस पड़ताल के चलते सरकारी दावे सामने आए थे। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सीडीओ एचजी भट्ट ने ब्लॉक के उन सभी शौचालयों का भौतिक सत्यापन के निर्देश दिए हैं, जो मनरेगा या स्वजल के मद से बनाए गए हैं। सत्यापन पूरा होने के बाद उन लोगों की सूची सामनेआएगी जो अब भी खुले में शौच को बाध्य हैं। इसके बाद उन लोगों के लिए प्रशासन की ओर से शौचालय निर्माण की कवायद शुरू की जाएगी। साथ ही ऐसे लोग भी सामने आ जाएंगे जिन्होंने सरकारी रुपये लेने के बाद भी शौचालय नहीं बनवाए। सीडीओ ने बताया कि भौतिक सत्यापन की व्यवस्था शुरू हो गई है। शीघ्र ही इसके नतीजे सामने आ जाएंगे।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Party, devoid of toilets, CDO, verification
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड